Hindi News »Jharkhand »Chakradharpur» संकीर्तन को लेकर शराब दुकान बंद करने की मांग

संकीर्तन को लेकर शराब दुकान बंद करने की मांग

16 प्रहर की अखंड हरिसंकीर्तन धार्मिक अनुष्ठान को लेकर बनालता गांव के सैकड़ों ग्रामीणों ने सरकारी शराब दुकान को बंद...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 02:05 AM IST

16 प्रहर की अखंड हरिसंकीर्तन धार्मिक अनुष्ठान को लेकर बनालता गांव के सैकड़ों ग्रामीणों ने सरकारी शराब दुकान को बंद कराने की मांग जिला प्रशासन से की है। बनालता गांव में 15 अप्रैल से गंधदिवस के बाद हरि नाम जाप का अखंड हरिकीर्तन आरंभ है। इससे पहले गांव के आसपास का माहौल भक्तिमय व धार्मिक होने के कारण रविवार की शाम को सरकारी शराब दुकान को बंद करा दिया। लेकिन आबकारी विभाग के वरीय अधिकारियों ने ग्रामीणों की बातें नहीं सुनी। दूसरे दिन जबरन खुलवा दिया है। लोग आक्रोशित हैं। सैकड़ों लोगों ने आबकारी आयुक्त रांची, जिले के डीसी को सरकारी शराब दुकान बंद कराने की मांग पर पत्र लिखा है। हालांकि गांव में धार्मिक अनुष्ठान समापन तक आबकारी विभाग के अधिकारियों की मनमानी का सामना कर रहे हैं। गांव के लोग आबकारी विभाग के उत्पाद अधीक्षक सुधीर कुमार के अलावे दारोगा प्रदीप कुमार से सिर्फ तीन दिन ही दुकान बंद कराने की मांग की थी। गांववालों का कहना है कि जब रामनवमी जैसे त्योहार में शहर में दुकानें बंद रहती है,तो गांव में इतनी बड़े धार्मिक अनुष्ठान में क्यों बंद नहीं रहेगा। ग्रामीणों के विरोध से संबंधित पत्र दैनिक भास्कर को मिला तो व्हाटसअप से आबकारी दारोगा प्रदीप कुमार को भेजा गया। इस पर उनका जबाव आया कि हमलोग क्या कर सकते हैं। वहीं ग्रामीणों ने जब जिला उत्पाद अधीक्षक सुधीर कुमार से बात की तो उन्होंने कानून का हवाला दिया। बताया कि वरीय अधिकारियों को पत्र दें।

ग्रामीणों के विरोध के बाद भी आबकारी विभाग ने खोली शराब की दुकान, ग्रामीणों में आक्रोश

18 को होगा कीर्तन का समापन - 18 अप्रैल तक हरिनाम का अखंड जाप चलता रहेगा। तीन दिनों तक गांव में भक्ति का माहौल रहेगा। प बंगाल के अलावे पूर्वी सिंहभूम के कई नामचीन कीर्तन दल इस नाम जाप में शामिल हो रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Chakradharpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×