--Advertisement--

ग्रामीण महिलाओं के आय का स्रोत बना महुआ

चंदवारा | प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में मार्च-अप्रैल के महीनों में महिलाओं के लिए महुआ आय का स्रोत बना है। वहीं...

Dainik Bhaskar

Apr 05, 2018, 02:20 AM IST
चंदवारा | प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में मार्च-अप्रैल के महीनों में महिलाओं के लिए महुआ आय का स्रोत बना है। वहीं भोण्डो, पिपराही, चौराही, महुआदोहर, दुर्गनिया सहित दर्जनों गांव की महिलाएं अहले सुबह 4 बजे उठती है और अपने साथ टोकरी लेकर प्रत्येक दिन जंगल की ओर महुआ चुनने चल पड़ती है। दर्जनों महिलाएं महुआ पेड़ के नीचे गिरे महुआ को चुन कर इकट्ठा करती हैं। महुआ चुनने का सिलसिला महीनों तक चलता है। इसके बाद महिला महुआ को सुखाती आती है और 40 से 50 रुपया प्रति किलो की दर से बाजार में बेचती हैं। महुआ का उपयोग अधिकतर शराब बनाने व गर्मी के दिनों में जानवर को खिलाने के काम में लाया जाता है। ग्रामीण क्षेत्र में महुआ को उबालकर औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..