• Home
  • Jharkhand News
  • Chitarpur
  • किसी ने बजट को बेहतर बताया तो किसी ने बेहद निराशाजनक
--Advertisement--

किसी ने बजट को बेहतर बताया तो किसी ने बेहद निराशाजनक

केंद्र सरकार के बजट 2017-2018 पर चितरपुर क्षेत्र में लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रिया सामने आई है। किसी ने इस बजट को...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 02:20 AM IST
केंद्र सरकार के बजट 2017-2018 पर चितरपुर क्षेत्र में लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रिया सामने आई है। किसी ने इस बजट को सराहते हुए सकारात्मक बताया है तो किसी निराशाजनक बताया। आइए जानते हैं बजट पर क्षेत्र के लोगों का क्या कहना है।

भाजपा नेता युगेश महतो ने आम बजट को काफी बेहतर बजट बताया है। उन्होंने कहा कि यह बजट किसानों एवं गरीबों के लिए काफी लाभकारी है। इस बजट को किसानों के दोगुना आय के लिये बनाया गया हैं। साथ ही प्रधानमंत्री सिंचाई योजना से किसान काफी लाभान्वित होंगे। आदिवासी लोगो के लिए भी काफी हितकारी बजट है

एजेएसएस नेता रविंद्र वर्मा ने लोकसभा में वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा पेश किए गए बजट को काफी बेहतर बताया। उन्होंने कहा कि इस बजट से गरीबों, किसानों, व्यवसायों एवं नौकरी पेशा वाले लोगों को काफी फायदा मिलेगा। इसके अलावे टैक्स में कुछ राहत मिलने से मध्य वर्गीय लोगों को भी काफी फायदा मिलेगा।

चितरपुर उत्तरी पार्षद गोपाल चौधरी ने कहा कि यह बजट आम बजट की तरह सामान्य है। इससे न तो बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा, और न ही ज्यादा नुकसान । यह बजट कुल मिलाकर ठीक ठाक है।

कॉंग्रेस नेता हाजी अख्तर आजाद ने कहा कि यह बजट काफी निराशा जनक है। इससे लोगो को कोई फायदा नही मिलेगा। सरकार अपने स्वार्थ के लिए बजट पेश किया है। बजट को लोगो ने नकारा है। पांच राज्यों में होने वाले चुनाव में फायदा लेने के लिए बजट पेश किया गया है।

झामुमो नेता ने कहा कि संसद में जो बजट पेश किया गया है वह बजट आम लोगो के लिए नुकसानदेह साबित होगा। क्योंकि बजट से केवल पूंजीपतियों को फायदा होगा न कि गरीबों को। सरकार ने गरीबों को नजरअंदाज किया है। साथ ही बजट में किसानों के लिए कुछ भी नही दिया गया है। जिससे किसान काफी हताश होंगे।

झाविमो नेता डीएन चौधरी ने कहा कि भाजपा ने फिर से लोगो को निराश किया है। इस बजट से किसी भी व्यक्ति का भला नही हो सकता है। क्योंकि भाजपा केवल अमीरों की पार्टी है। इसलिए अमीर लोगो को देखते हुए बजट पेश किया गया है।

युगेश महतो।

रविंद्र वर्मा।

गोपाल चौधरी।

हाजी अख्तर आजाद।

महेंद्र मिस्त्री।

डीएन चौधरी।