--Advertisement--

छोटकीपोना में दो चचेरे भाई बने दारोगा

मेहनत से हर मुकाम हासिल किया जा सकता है। बस मेहनत करने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए। उक्त बातों को चरितार्थ किया है...

Dainik Bhaskar

Jun 29, 2018, 02:25 AM IST
छोटकीपोना में दो चचेरे भाई बने दारोगा
मेहनत से हर मुकाम हासिल किया जा सकता है। बस मेहनत करने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए। उक्त बातों को चरितार्थ किया है छोटकीपोना गांव के दो होनहार युवकों ने। यहां एक ही घर के दो युवकों को दरोगा की परीक्षा में सफलता हासिल हुई हैं। दोनों आपस में चचेरे भाई हैं। पहले युवक मंटू कुमार को अपने पहले प्रयास में ही सफलता मिली।

उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा केबी हाई स्कूल लारी, इंटर की पढ़ाई अनंदा कॉलेज हजारीबाग व स्नातक साइंस की पढ़ाई मार्खम कॉलेज हजारीबाग से पूरा किया है। इनके पिता पंचम महतो पेशे से किसान हैं और मां कल्या देवी गृहिणी हैं। छात्र मंटू ने बताया कि मेहनत के सहारे कोई भी परीक्षा पास की जा सकती है।

जिला पुलिस बल की नौकरी छोड़ी, बना दरोगा

वही दूसरे छोटकीपोना निवासी अंजन कुमार के पिता महादेव महतो किसान हैं और मां बसंती देवी गृहिणी हैं। सफलता के बाद अंजन कुमार ने बताया कि उन्होंने वर्ष 2017 के मई माह में जिला पुलिस में सफलता मिली थी। वर्ष 2017 के अगस्त माह में वनरक्षी में सफलता मिला था। पहले जिला पुलिस बल की नौकरी छोड़ी और अब वनरक्षी की नौकरी में भी रिजाइन मारेंगे। अंजन कहते हैं कि मुझे शुरू से ही मान सम्मान की नौकरी करने की इच्छा हैं। उन्होंने सरस्वती विद्या मंदिर रजरप्पा से मैट्रिक, चितरपुर इंटर कॉलेज से इंटर की पढाई पूरी की। स्नातक साइंस की पढ़ाई रामगढ़ कॉलेज से पूरी की हैं। दोनों की सफलता पर समाजसेवी चित्रगुप्त महतो, मुखिया नीना देवी, पंसस अंजू देवी के अलावा महानंद महतो, हीरालाल प्रसाद, सतीश कुमार, मनोज महतो, विजय कुमार, गोविंद महतो, दीवाली महतो आदि ने बधाई दी है।

मंटू कुमार।

अंजन कुमार।

X
छोटकीपोना में दो चचेरे भाई बने दारोगा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..