डाकरा

  • Home
  • Jharkhand News
  • Dakra
  • एक सप्ताह में रोजगार नहीं मिला तो ठप कराएंगे परियोजना का काम : ग्रामीण
--Advertisement--

एक सप्ताह में रोजगार नहीं मिला तो ठप कराएंगे परियोजना का काम : ग्रामीण

रोहिणी परियोजना के अंतर्गत आउटसोर्सिंग पैच में काम करने वाली कंपनी आरकेएस कंपनी व पीएलआर कंपनी में विस्थापितों,...

Danik Bhaskar

Feb 06, 2018, 02:25 AM IST
रोहिणी परियोजना के अंतर्गत आउटसोर्सिंग पैच में काम करने वाली कंपनी आरकेएस कंपनी व पीएलआर कंपनी में विस्थापितों, प्रभावित ग्रामीणों को 80 फीसदी रोजगार में भागीदारी को लेकर ग्रामीणों की बैठक खिलानधौड़ा में प्रमुख सोनी तिग्गा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में मुख्य रूप से पूर्वी जिप सदस्य अब्दुल्ला अंसारी व पश्चिमी जिप सदस्य रतिया गंझू व पंचायत की मुखिया सुशीला देवी उपस्थित थी। बैठक में प्रभावित ग्रामीणों ने अपने रोजगार के लिये कंपनी में अपनी 80 फीसदी भागीदारी सुनिश्चित करने को लेकर चर्चा की। इसके साथ ही ग्रामीणों ने कहा कि विस्थापित प्रभावित ग्रामीणों का कब्रिस्तान मसना स्थल को आरकेएस कंपनी द्वारा क्षतिग्रस्त किया गया, जिसे अविलंब रोकने के साथ ही सभी सड़कों पर नियमित रूप से पानी का छिड़काव कराकर प्रदूषण को नियंत्रित किया जाए। बैठक के अंत में ग्रामीणों ने रोजगार उपलब्ध नहीं होने पर एक सप्ताह के बाद पूरे परियोजना का काम ठप कराने का भी निर्णय लिया। बैठक के बाद ग्रामीणों का प्रतिनिधिमंडल ने रोहिणी परियोजना पदाधिकारी को इस संबंध में एक ज्ञापन सौंपा। इसमें पंसस नकमिया देवी, रंथु उरांव, अमर साव, प्रकाश साव, विंदू भुइयां, निरंजन गंझू, केदरा उरांव, मुस्तकीम अली, रामसुमेश्वर चौहान, आकाश कुमार साहू, संतोष साव, भोला लोहरा, प्रदीप उरांव, विक्की साव, मनोज लोहरा, सन्नी लोहरा, सुनील सिंह सहित अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।

मसना स्थल को सुरक्षित रखने व नियमित सड़कों पर पानी छिड़काव के लिए पीओ को ज्ञापन सौंपा

एनके एरिया असंगठित मजदूर संघ का हड़ताल आज से

खलारी | एनके एरिया असंगठित मजदूर संघ की ओर से डकरा परियोजना के अंतर्गत नाकाशा व टीसीपीएल कंपनी में कार्यरत्त ऑपरेटर, मुंशी, मिस्त्री, डालातैन सहित अन्य मजदूर मंगलवार से हड़ताल पर चले जायेंगे। इस संबंध में संघ का एक प्रतिनिधि मण्डल एनके एरिया महाप्रबंधक से मिलकर एक ज्ञापन सौंपा। मजदूरों ने बताया कि कम्पनी द्वारा सीएमपीएफ का पैसा काट रही है लेकिन अभी तक उनलोगों को न तो सीएमपीएफ पास बुक और न ही नम्बर ही दिया जा रहा है। मजदूरों ने बताया कि पुर्व में भी इस संबंध में पत्र दिया गया था और इसके लिये दो फरवरी का समय दिया गया था। समय सीमा बीत जाने के बाद भी कोई समाधान नहीं निकला जिस कारण मजदूर बाध्य होकर छह से हड़ताल में जाने का निर्णय लिया है। पत्र देने वालों में अख्तर आलम,कृष्णा चौधरी,रंजीत चौधरी,उपेन्द्र ठाकुर,अभिमन्यु यादव,शैलेन्द्र यादव,परवेज खान,हसन खान,लक्ष्मण गंझु सहित अन्य कामगार शामिल थे।

Click to listen..