--Advertisement--

भागवत कथा में देव ऋषि नारद जी का वर्णन

डकरा | मोहननगर में दस फरवरी से शुरू होने वाले रुद्र महायज्ञ को संपन्न कराने पहुंचे रामानुजाचार्य स्वामी...

Danik Bhaskar | Feb 06, 2018, 02:25 AM IST
डकरा | मोहननगर में दस फरवरी से शुरू होने वाले रुद्र महायज्ञ को संपन्न कराने पहुंचे रामानुजाचार्य स्वामी गोविंदाचार्य महाराज पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सत्संग व कथा के माध्यम से मनुष्य भगवान की शरण में पहुंचता है, वरना वह इस संसार में आकर मोहमाया के चक्कर में पड़ जाता है। इसीलिए मनुष्य को समय निकालकर श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भागवत पुराण हिन्दुओं के अठारह पुराणों में से एक है। भागवत कथा सुनने से मन का शुद्धिकरण होता है। इससे संशय दूर होता है और शांति व मुक्ति मिलती है। खास कर बच्चों संस्कारवान बना कर सत्संग कथा के लिए प्रेरित करें।