• Home
  • Jharkhand News
  • Dakra
  • बस सेवा बंद सड़क पर उतरे समर्थन गिरफ्तार
--Advertisement--

बस सेवा बंद सड़क पर उतरे समर्थन गिरफ्तार

भास्कर न्यूज | खूंटी/खलारी/डकरा/तमाड़ एसटी-एससी एक्ट में संशोधन के खिलाफ आहूत भारत बंद के दौरान सोमवार को भगत सिंह...

Danik Bhaskar | Apr 03, 2018, 02:55 AM IST
भास्कर न्यूज | खूंटी/खलारी/डकरा/तमाड़

एसटी-एससी एक्ट में संशोधन के खिलाफ आहूत भारत बंद के दौरान सोमवार को भगत सिंह चौक में आदिवासियों व व्यवसायियों के बीच टकराव की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। रोज-रोज के बंद से आक्रोशित व्यवसायियों ने बंद समर्थकों को भगत सिंह चौक में रोक दिया। आदिवासी संगठन के लोग जब जबरन दुकान बंद कराने की कोशिश की तो व्यवसायी भड़क गए और बंद समर्थकों को खदेड़ना शुरू कर दिया। उस वक्त आदिवासियों की संख्या 30-40 के आसपास रही होगी। इनका नेतृत्व शंकर सिंह मुंडा कर रहे थे।

शंकर सिंह मुंडा मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा के चचेरा भतीजा है। जिस समय आदिवासियों को खदेड़ा जा रहा था, उसी क्रम में एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा वहां से गुजर रहे थे, एसपी ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए तुरंत अपनी गाड़ी से उतरकर व्यवसायियों के पास पहुंच गए। उन्हें समझा-बुझाकर शांत कराया। इससे पूर्व 11 बजे के करीब आदिवासियों की एक टोली सबसे पहले बाजारटांड़ में जमा हुई। इसमें अधिकतर लोग कॉलेज-हॉस्टल के छात्र थे। बाजारटांड़ की दुकान बंद कराते हुए आदिवासियों की टोली भगत सिंह चौक पहुंचे। यहां दुकानों को बंद कराने के दौरान ही कई व्यवसायी एकजुटता का परिचय देते हुए आदिवासियों को घेर लिया और भाग जाने को कहा गया।

जब वे लोग पीछे हटने को तैयार नहीं हुए तो जबरन खदेड़ने लगे। देखते ही देखते काफी भीड़ जुट गयी। भीड़ की नजाकत को देख बंद समर्थक वापस भाग खड़े हुए। उस वक्त स्थिति ऐसी बन गयी थी कि आदिवासी पीछे नहीं हटते तो कुछ भी हो जाता। थानाप्रभारी व प्रोबेशनर डीएसपी वरूण रजक भी वहां मौजूद थे। बाद में व्यवसायियों ने भगत सिंह चौक से नेताजी चौक की दुकानें खोल दी। इधर, इस स्थिति को देखते हुए जिला पुलिस ने भगत सिंह चौक से बाजार टांड़ तक काफी संख्या में पुलिस बलों की तैनाती कर दी। आदिवासी संगठन के लोग संख्याबल के साथ पुन: दुकान बंद कराने आ सकते है।

बंद को सफल करने आए समर्थकों को खदेड़ा

खूंटी में व्यवसायियों को समझाते एसपी व थाना प्रभारी।

बंद का खलारी में व्यापक असर

खलारी में अनुसूचित जाति-जनजाति एकता मंच के द्वारा विशाल मोटरसाइकिल जुलूस निकाला गया। इससे पूर्व सिस्टा,बिरसा विस्थापित मंच,अखिल भारतीय अनुसूचित जाति महासभा,नीलाम्बर पीतांबर जन कल्याण समिति,ऑल इंडिया एससी एसटी ओबीसी कॉर्डिनेशन काउंसिल,संत सुपन समाज,अनुसूचित जाति जनजाति कल्याण न्यास,झारखंड आदिवासी कल्याण समिति सहित अन्य संगठनों के लोग अपने-आपने क्षेत्र से निकलकर डकरा स्टेडियम में एकत्रित हुए और वहां से सैकडों की संख्या में कार्यकर्ता अपने-अपने संगठन का झंडा लिये मोटरसाइकिल पर सवार होकर पूरे क्षेत्र में घूमते हुए खलारी प्रखण्ड कार्यालय पहुंचे।जुलूस में लोग एक्ट के संशोधन के विरोध में नारा लगा रहे थे। प्रखण्ड कार्यालय में जुलूस एक सभा में परिनत हो गया। प्रमुख सोनी तिग्गा ने कहा कि एसटी-एससी एक्ट से महिलाओं को शोषित व उत्पीड़न के मामले में मदद मिलती थी। एक्ट के संशोधन व बदलाव के बाद महिलाओं का एक्ट के प्रति विश्वास खत्म हो जायेगा और शोषित अौर शाेषित व उत्पीड़न का शिकार बनेंगे। एक्ट में छेड़छाड़ व बदलाव बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सभा को विश्वजीत पासवान, इंदिरा देवी, जिप सदस्य रतिया गंझू, विश्वनाथ गंझू, राजकुमार उरांव, असर्फी राम, कन्हाई पासी, भजोराम सतनामी, देवपाल मुंडा, सुरेश उरांव, रामलखन गंझू सहित अन्य वक्ताओं ने भी संबोधित किया। राष्ट्रपति के नाम पांच सूत्री ज्ञापन सीओ एसएन वर्मा व बीडीओ गौतम प्रसाद साहू को सौंपा।

भारत बंद को लेकर खलारी में समर्थकों ने निकला जुलूस।

खलारी प्रखंड में बंद समर्थकों द्वारा आयोजित सभा।

डकरा में घूम-घूमकर दुकानें बंद कराने निकले बंद समर्थक।

डकरा-पिपरवार में भी व्यापक असर

डकरा/पिपरवार/बुंडू | कोयला ट्रांसपोर्टिंग, दुकान, रोड सेल, यात्री वाहन पूर्णता बंद रहे। हालांकि सीसीएल कार्यालयों और कोयला खदानों में आम दिनों की तरह काम-काज हुआ। सिस्टा के एनके एरिया अध्यक्ष अमृत भोगता ने कहा कि कानून में बदलाव से अनुसूचित जाति-जनजाति के लोगों का हक और अधिकार खत्म होगी ही साथ ही इन पर अत्याचार करने का भी बढ़ावा मिलेगी। वहीं, बहुरा मुंडा ने कहा कि सीओ बीडीओ माध्यम से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद व पीएम के नाम ज्ञापन भेजकर अधिनियम को यथावत बनाए रखने की मांग की जाए। बंद को छत्तीसगढ़ी एकता मंच, बिरसा विस्थापित मंच, सुपन समाज मंच, अनुसूचित जाति जनजाति कल्याण न्यास समिति, एससी एसटी कौंसिल ने अपना नैतिक समर्थन दिया। मौके पर रामलखन गंझू, बंधन मुंडा, दिलीप पासवान, किशोर मुंडा, राजकुमार उरांव, मिथलेश पासवान, विश्वजीत पासवान, शिवकुमार, ध्वजा राम धोबी, विष्णु मुंडा, अशोक राम, नीरज उरांव, बबलू मुंडा, सोनी तिग्गा, इंदिरा देवी तुरी, मानसी देवी, देवपाल मुंडा, कन्हाई पासी, दशरथ तूरी सहित सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद थे। इधर, बंद को देखते हुए खलारी इंस्पेक्टर राजीव रंजन लाल, सीओ एस वर्मा, बीडीओ गौतम प्रसाद साहू पूरे दलबल के साथ क्षेत्र का जाएजा लेते रहे। इधर, बुंडू, तमाड़ और पिपरवार में बंद का मिलाजुला असर रहा।