• Home
  • Jharkhand News
  • Dakra
  • प्रार्थना सभा में विस्थापित नेता को गोली मारी, मौत
--Advertisement--

प्रार्थना सभा में विस्थापित नेता को गोली मारी, मौत

सीसीएल कर्मी व विस्थापिता नेता सुरेश उरांव की मौत के बाद बिलखते परिजन। भास्कर न्यूज | डकरा एनके एरिया की...

Danik Bhaskar | Jun 08, 2018, 02:15 AM IST
सीसीएल कर्मी व विस्थापिता नेता सुरेश उरांव की मौत के बाद बिलखते परिजन।

भास्कर न्यूज | डकरा

एनके एरिया की पुर्नाडीह परियोजना में कार्यरत सीसीएल कर्मी सह विस्थापित नेता सुरेश उरांव (30) को दिनदहाड़े अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी। घटना गुरुवार सुबह 10:30 की है। कुटकी के सफी टोला में सरना समाज की प्रार्थना सभा थी। सुरेश इसमें शामिल होने आया था। धार्मिक अनुष्ठान चल रहा था। इसी बीच दो बाइक पर चार अपराधी पहुंचे और सुरेश से हाथ मिला कर प्रणाम किया। उनमें से एक अपराधी ने कमर से पिस्टल निकाल कर सुरेश को गोली मार दी। इससे पहले लोग समझ पाते सभी अपराधी जंगल के रास्ते भाग निकले।

घायल सुरेश उरांव को आनन-फानन में डकरा अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। सुरेश के माथे में दो गोली और सीने में दो गोली लगी थी। परिजनों ने पिपरवार पुलिस को बताया कि सुरेश की किसी से दुश्मनी नहीं थी। उसकी प|ी को जमीन के बदले नौकरी लगने वाली थी। उसके दो छोटे-छोटे बच्चे हैं। घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने नौकरी की मांग को लेकर परियोजना का कामकाज बंद करा दिया। पुलिस क्षेत्र की नाकाबंदी घर अपराधियों की तलाश में जुट गई है।

6 साल पहले विस्थापित नेता के रूप में उभरा था सुरेश उरांव : सुरेश विस्थापितों की नौकरी और मुआवजा दिलाने को लेकर लगातार आंदोलन करता था। वर्ष 2012 में एनके एरिया के पुरनाडीह परियोजना विस्तारीकरण के दौरान हेंजदा कुटकी के ग्रामीणों को गोलबंद कर उसने सीसीएल प्रबंधन के खिलाफ बड़ा आंदोलन किया था। सीसीएल ने 200 एकड़ जमीन अधिग्रहण की थी। कंपनी को 400 लोगों को नौकरी देनी थी, लेकिन मात्र 100 लोगों को ही नौकरी मिली थी। इस मुद्दे पर उसने आंदोलन का नेतृत्व किया था और विस्थापित नेता के रूप में उभरा। उसकी मौत से भी शोकाकुल हैं।