डाकरा

  • Home
  • Jharkhand News
  • Dakra
  • राष्ट्र के सर्वांगीण विकास के मूल आधार हैं शिक्षित व्यक्ति
--Advertisement--

राष्ट्र के सर्वांगीण विकास के मूल आधार हैं शिक्षित व्यक्ति

शिक्षा विकास की सबसे बड़ी कड़ी होती है। शिक्षित व्यक्ति सभ्य समाज की पहचान एवं राष्ट्र के सर्वांगीण विकास के मूल...

Danik Bhaskar

Apr 09, 2018, 02:25 AM IST
शिक्षा विकास की सबसे बड़ी कड़ी होती है। शिक्षित व्यक्ति सभ्य समाज की पहचान एवं राष्ट्र के सर्वांगीण विकास के मूल आधार होते हैं। ये बातें जेसीसी सदस्य ललन प्रसाद सिंह ने कहीं। वे रविवार को झारखंड पब्लिक स्कूल, मोहननगर के तृतीय वार्षिकोत्सव में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि समय की मांग है कि हम बच्चों को समझें। नींव मजबूत करें और उनकी कल्पनाओं को उड़ान दें। विशिष्ट अतिथि एनके एरिया के एसओसी सैयद विलायतउल्लाह ने कहा कि छोटे कस्बे में यह स्कूल शिक्षा का अलख जगा रहा है, यह तारीफे काबिल है। हम सभी की यह नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे। एक लड़की का शिक्षित होना एक परिवार को शिक्षित होने के बराबर है। कार्मिक अधिकारी एसके गोस्वामी ने कहा कि शिक्षक बौद्धिक परंपराओं तथा तकनीक कौशल को पीढ़ी दर पीढ़ी पहुंचाने में धुरी का काम करता है, वह विद्यार्थियों का ही नहीं संपूर्ण समाज और राष्ट्र का मार्गदर्शन करती है। उन्होंने लोगों को जानकारी दी कि सीसीएल के लाल और लाडली योजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर प्रतिभावान बच्चों को सशक्त बनाया जा रहा है। स्कूल के प्राचार्य विकास कुमार ने सालभर की प्रगति रिपोर्ट पेश की। वार्षिकोत्सव में बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। एक से बढ़कर एक नृत्य और लघु नाटकों का मंचन किया। इससे पूर्व अतिथियों ने सामूहिक रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। कार्यक्रम का संचालन स्मिता गुप्ता और इशिका कौर ने किया, जबकि धन्यवाद ज्ञापन अभिषेक कुमार ने किया। मौके पर संस्थापक जागीन चौहान, रामविलास भारती, देवनारायण गंझू, सुनील कुमार, ओमप्रकाश शर्मा, संजय चौहान, आशा चौहान, गिरधर मिश्रा, संतोष कोसले, विजय, अरुण, किरण, साजिया, नाजिया, भगवती, सहित बड़ी संख्या में अभिभावक मौजूद थे।

स्कूल के वार्षिकोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते बच्चे।

Click to listen..