बोकारो से धनबाद आने-जाने के 9 रास्ते, कहीं भी जांच नहीं

Dhanbad News - कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन और धनबाद की सीमाएं सील रहने के बीच बोकारो में एक पॉजिटिव केस सामने आने के बावजूद...

Apr 06, 2020, 06:36 AM IST

कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन और धनबाद की सीमाएं सील रहने के बीच बोकारो में एक पॉजिटिव केस सामने आने के बावजूद पुलिस व प्रशासननिक सुस्ती बड़े खतरे की आहट दे रही है। बोकारो में एक मरीज चिह्नित होने के बाद धनबाद में खौफ पसर रहा है, फिर भी बोकारो से जोड़ने वाले धनबाद जिले के 9 रास्तों में आने-जाने वालों की जांच तक नहीं हो रही है। महुदा क्षेत्र से बोकारो को तीन रास्ते जोड़ते हैं। इन तीन में एकमात्र तेलमच्चो ब्रिज में बैरियर लगाया गया, परंतु रविवार को वहां का जायजा लिया गया तो वहां मौजूद पुलिसकर्मियों में कोई बैरियर के पास नहीं था। वहीं ग्राम रक्षा दल के सदस्य गायब मिले। वहीं बोकारो के तालगड़िया से भाटडीह, बारकी, मुरलीडीह के रास्ते महुदा बाजार और बोकारो के ही दुग्धा से लौहपिट्टी के रास्ते महुदा पहुंचने वाले ग्रामीण मार्ग पर बैरियर नहीं लगे हैं और लोगों की बेरोक-टोक आवाजाही जारी है। दूसरी तरफ झरिया क्षेत्र से मोहलबनी और सुदामडीह से दो रास्ते बोकारो जाते हैं। मोहलबनी में बैरियर है, परंतु सुरक्षाकर्मी नदारद मिले। वहीं सुदामडीह रिवर साइड में नए बने पुल से भोजूडीह (बोकारो) में बैरियर तक नहीं है और इस ग्रामीण सड़क का लोग बोकारो आने-जाने के लिए खूब इस्तेमाल कर रहे हैं। गोमो क्षेत्र के गांव जीतपुर, भेंडरा, खैराबेड़ा और चैता की ग्रामीण सड़कों से बगैर बाधा तेलो (बोकारो) आना-जाना बदस्तूर जारी है।

मोहलबनी: सुदामडीह पसंदीदा रास्ता बना


झरिया क्षेत्र से बोकारो जाने का सबसे बेहतर रास्ता मोहलबनी में दामोदर नदी में बने बिरसा पुल का है। पुल पर बैरियर जरूर बना हुआ है, परंतु वहां तैनात पुलिस कर्मी आने-जाने वालों से पूछताछ नहीं कर रहे हैं। वहीं सुदामडीह रिवर साइड में हाल में बने पुल से आराम से भोजूडीह (बोकारो) की इंट्री हो रही है। यहां न बैरियर है और पुलिसकर्मियों की तैनाती। यह आने-जाने वालों का पसंदीदा रास्ता बना हुआ है।


बैरियर के पास पुलिस नहीं दिखी तैनात

बोकारो को धनबाद से जोड़ने का सबसे सुगम रास्ता महुदा के बाद तेलमच्चो ब्रिज है। यहां बैरियर लगा हुआ है, एक अधिकारी के साथ चार जवानों की ड्यूटी थी। पर बैरियर के पास कोई पुलिसवाला नहीं था। वहीं, बोकारो से दो ग्रामीण रास्तों से लोग महुदा में प्रवेश कर रहे हैं। तालगड़िया से भाटडीह और बारकी पुल होते हुए मुरलीडीह के रास्ते लोग महुदा बाजार आ रहे हैं। कोई जांच की व्यवस्था नहीं है।

बरबेंदिया घाट, निरसा

गोमो से चार ग्रामीण रास्ते बोकारो के तेलो जाते हैं। जीतपुर, भेंडरा, खैराबेड़ा और चैता से इन रास्तों से पहले भी लोग बोकारो आना-जाना करते हैं, परंतु लॉकडाउन के बाद इन रास्तों में आवाजाही बढ़ गई है। इन चारों रास्तों में न बैरियर है और पुलिसकर्मियों की तैनाती।


गोमो से चार ग्रामीण रास्ते, बेरोक-टोक आवाजाही जारी


मैथन चेकपोस्ट

खैराबाद

तेलमच्चो

सुदामडीह

बंगाल से मैथन पहुंचने के दो रास्ते हैं। एक एनएच-2 के जरिए और दूसरा मैथन डैम होकर। एनएच-2 में बने नाके में अब बंगाल से आने वालों से सवाल हो रहे हैं। संतुष्टि के बाद ही प्रवेश मिल रहा है। पैदल चलने वालों पर भी पुलिस सख्त दिख रही है। वहीं डैम के रास्ते से सिर्फ डीवीसीकर्मियों को ही इंट्री की इजाजत है। चिरकुंडा में बने नाके में पूछताछ के बाद बाद ही आने-जाने की इजाजत मिल रही है।

धनबाद जिला की सीमाएं जामताड़ा और गिरिडीह जिलों से भी सटी हैं। टुंडी के रास्ते बराकर पुल के पास गिरिडीह से आने वालों की स्क्रीनिंग के बाद ही प्रवेश मिलता है। वहीं तोपचांची के रास्ते गिरिडीह जाने वाले एनएच-2 में जांच तक नहीं होती। गोविंदपुर से साहेबगंज रोड और निरसा के बेरबेंदिया पुल के रास्ते जामताड़ा से आने-जाने वालों की जांच नहीं हो रही है। इन रास्तों में आवाजाही बदस्तूर जारी है।

बंगाल सीमा पर पैदल आने-जाने पर रोक

गिरिडीह सीमा पर जांच, जामताड़ा सीमा पर नहीं

धनबाद-बोकारो सीमा पर तेलमच्चो ब्रिज बैरियर से आंखों देखी...


{बोकारो से महुदा पहुंचने के दो ग्रामीण समेत तीन मार्ग

{ सुदामडीह, मोहलबनी और गोमो से भी कच्चे-पक्के 6 रास्ते

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना