• Hindi News
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • बजट को किसी ने सराहा तो किसी ने कहा जो उम्मीद थी वह नहीं मिला
--Advertisement--

बजट को किसी ने सराहा तो किसी ने कहा जो उम्मीद थी वह नहीं मिला

गुरुवार को लोकसभा में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने साल का बजट पेश किया। बजट को लेकर सुबह से ही लोगों की नजर टीवी...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:25 AM IST
बजट को किसी ने सराहा तो किसी ने कहा जो उम्मीद थी वह नहीं मिला
गुरुवार को लोकसभा में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने साल का बजट पेश किया। बजट को लेकर सुबह से ही लोगों की नजर टीवी स्क्रीन पर थी। सुबह 11 बजे से बजट पेश किया गया। बजट को देख किसी ने बजट को सराहा तो किसी ने इसे लोक लुभावन व बेकार बजट बताया। बजट पर हर किसी ने अपनी अलग-अलग राय दी।

जेएमएम के महानगर अध्यक्ष सुरेश साह ने बताया कि यह बजट आम लोगों को बिल्कुल ही निराश किया है। इससे आम लोगों को कोई लाभ नहीं होने वाला है। इस बजट में आम लोगों ने सोचा था कि टैक्स की सीमा ढाई लाख से बढ़ाकर पांच लाख तक होगी लेकिन इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया, ताकि लोगों की घरेलू स्थिति सुधर सके। बजट किसानों, शिक्षा, स्वास्थ्य के लिए भी बेकार है।

जेएमएम नेता नंद किशोर दास ने कहा कि यह बजट आम लोगों के लिए नहीं है। इस बजट से सिर्फ कॉरपारेट घराने को लाभ होगा। किसानों के लिए इस बजट में कुछ नहीं है। सरकार ने लोगों को ठगने का काम किया गया।

चन्द्रमोहन मंडल ने कहा कि इस बजट से जनता को निराशा हाथ लगी है। इससे आम लोगों व किसानों को लाभ नहीं होनेवाला है। नगर निगम के पूर्व पार्षद सुमन पंडित ने कहा कि सरकार ने बहुत ही अच्छा बजट पेश किया है। इससे आम से लेकर खास सभी तबके के लोगों का ख्याल रखा गया है। इस बजट से किसानों को भी लाभ होगा। युवाओं के लिए काफी कुछ इस बजट में लाया गया है। शिक्षा पर भी बजट में जोर दिया गया है।

जवीएम महानगर अध्यक्ष बिनोद वर्मा ने कहा कि यह बजट बिल्कुल ही निराशाजनक बजट है। इसमें किसी को लाभ होनेवाला नहीं है। बजट में कुछ नया नहीं है।

X
बजट को किसी ने सराहा तो किसी ने कहा जो उम्मीद थी वह नहीं मिला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..