• Hindi News
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • लिलोरी पथरा में बढ़ी दरार, भू धंसान देखने पहुंचे एसडीओ, आवागमन रोकने का निर्देश
--Advertisement--

लिलोरी पथरा में बढ़ी दरार, भू धंसान देखने पहुंचे एसडीओ, आवागमन रोकने का निर्देश

झरिया शहर से सटे लिलोरी पथरा और बालूगद्दा के बीच पड़ी दरार का दायरा बढ़ गया है। दरार के बढ़ते दायरे को देख लिलोरी...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 01:10 PM IST
झरिया शहर से सटे लिलोरी पथरा और बालूगद्दा के बीच पड़ी दरार का दायरा बढ़ गया है। दरार के बढ़ते दायरे को देख लिलोरी पथरा और बालूगद्दा के बीच रेलवे लाइन पर आवागमन को बंद कर दिया गया है। बुधवार को उपायुक्त के निर्देश पर घटना स्थल का जायजा लेने पहुंचे एसडीओ अनन्य मित्तल ने आवागमन बंद करने और रेलवे लाइन की बगल में स्थित सड़क को चौड़ा करने का निर्देश दिया है। उन्होंने जेआरडीए को भू-धंसान प्रभावित क्षेत्रों का तत्काल सर्वे शुरू करने का भी निर्देश दिया है। जिस सड़क पर दरार की घटना हुई है, वह कच्ची सड़क है और धनबाद पाथरडीह रेलवे लाइन के उखाड़े जाने के बाद स्थानीय लोग इस ट्रैक को सड़क के रूप में इस्तेमाल कर रहे थे।

आवागमन ठप होने से 20 हजार की आबादी प्रभावित हुई है। इस सड़क पर दरार मंगलवार को देर शाम पड़ी थी। मंगलवार को दरार का दायरा कुछ कम था,लेकिन बुधवार को यह अधिक चौड़ा हो गया। एसडीओ के निर्देश पर खतरे को देखते हुए धसान प्रभावित इलाके को लाल कपड़े से बेरिकेडिंग कर दिया गया है। एसडीओ के घटना स्थल पर पहुंचे से पूर्व लोदना क्षेत्र के महाप्रबंधक कल्याण जी प्रसाद, सिंदरी डीएसपी प्रमोद कुमार केशरी, झरिया इंस्पेक्टर यूएन राय, परियोजना पदाधिकारी कुजामा एके झा घटना स्थल पर पहुंच चुके थे।

ओबी डालकर बंद कर दें रास्ता : अनन्य मित्तल

घटना स्थल का निरीक्षण करने पहुंचे एसडीओ अनन्त मित्तल ने लोदना जीएम को त्वरित कार्रवाई का निर्देश दिया। उन्होंने सबसे पहले सड़क की दोनों ओर ओडी डाल कर रास्ते को बंद करने का निर्देश दिया, साथ ही उन्होंने कहा वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में रेलवे लाइन के समीप स्थित सड़क की चौड़ाई बढ़ाने को कहा है। उन्होंने कहा कि बीसीसीएल सड़क की चौड़ीकरण का कार्य तत्काल शुरू करें। जिला प्रशासन पूरा सहयोग करेगा। उन्होंने जेआरडीए के अधिकारियों को प्रभावित क्षेत्र में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर बसाने के लिए सर्वे का काम जल्द शुरू करने का निर्देश दिया है।

दरार पड़ने के बाद महाप्रबंधक कल्याण जी से जानकारी लेते एसडीएम मित्तल।

बालूगद्दा और लिलोरी पथरा के बीच पड़ी दरार।

गड्ढे के कारण आई दरार

लिलोरी पथरा- बालूगद्दा के बीच हुए दरार के लिए स्थानीय लोगों ने प्रबंधन को जिम्मेवार ठहराया है। लोगों ने बताया कि भूमिगत आग को बुझाने और पांडे बेरा जोरिया के डायवर्सन के लिए ट्रेंच कटिंग किया गया था। ट्रेंच कटिंग के नाम पर गड्ढा तो किया गया,लेकिन उसे भरने की बजाय उसे ऐसे ही छोड़ दिया गया। आगे बुझाने के नाम पर खोदे गए गड्ढे से भूमिगत आग कम होने की बजाय अंदर ही अंदर और भड़क गया,जिसका परिणाम भूधंसान है। अब विस्थापन का खतरा बढ़ गया है। इधर सूत्रों की माने तो पूर्व में दोनों बस्ती में जेआरडीए की ओर से सर्वे का काम शुरू किया गया था,लेकिन लोगों के विरोध के कारण सर्वे का काम पूरा नहीं हो पाया था। लोगों का कहना था की उन्हें नियमानुसार बसाया जाए, पहले रोजगार की व्यवस्था की जाए। विरोध के कारण सर्वे बंद कर दिया गया था।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..