भास्कर इनिशिएटिव / पीएमसीएच के आईसीयू वार्ड में 30 भर्ती, इनमें 40% बाइक दुर्घटना केस, हेलमेट पहनते तो ये तस्वीर शायद कुछ अलग होती



पीएमसीएच के आईसीयू वार्ड में भर्ती घायल। पीएमसीएच के आईसीयू वार्ड में भर्ती घायल।
X
पीएमसीएच के आईसीयू वार्ड में भर्ती घायल।पीएमसीएच के आईसीयू वार्ड में भर्ती घायल।

  • 760 मौतें जनवरी से दिसंबर वर्ष 2018 के बीच धनबाद में, इनमें ज्यादातर बाइक सवार 

Feb 07, 2019, 11:52 AM IST

धनबाद. हेलमेट नहीं पहनने का आपके पास कौन सा बहाना है? यकीन मानिए, बहाना कोई भी हो...अंजाम कभी भी बुरा हो सकता है। आंकड़े बताते हैं कि धनबाद में 60% से ज्यादा हादसे दो पहिया वाहनों से हो रहे हैं। हादसे में जिन बाइक चालकों की मौत हुई, उनमें 95% ने हेलमेट नहीं पहना था। आंकड़े परखने के लिए भास्कर ने धनबाद के पीएमसीएच इमरजेंसी का जनरल व आईसीयू का रूख किया। दोनों वार्डों में कुल 30 मरीज भर्ती मिले। इनमें 13 मरीज रोड एक्सीडेंट से घायल होकर पहुंचे थे। जिनमें 10 घायल बाइक सवार थे। डॉक्‍टरों का कहना है कि सभी को हेड इंज्युरी है। अगर हेलमेट पहने होते तो शायद कुछ अलग तस्वीर बनती। आज से भास्कर एक प्रयास शुरू कर रहा है। हमारी सिर्फ एक अपील है...हादसे बताकर नहीं आते, हेलमेट पहन कर चलिए। 

हादसे बताकर नहीं आते..., हेलमेट पहनकर चलिए

  1. 1) मैं काफी संभल कर बाइक चलाता हूं, हादसे उनके साथ होते हैं जो गड़बड़ चलाते हैं.... 
    2) हेलमेट पहनकर चलाने से घुटन महसूस होती है, बाइक चलाने का मजा नहीं आता... 
    3) पुलिस चेकिंग होगी तो देखी जाएगी, अभी तो नहीं है ना, पकड़े जाएंगे तो 100-50 दे देंगे .... 
     

  2. हादसों का सच बताते आंकड़े

    • 1135 मौतें वर्ष 2017 में धनबाद में हुई। मरने वाले 410 लोग दो पहिया वाहन सवार थे। 
    • 760 मौतें जनवरी से दिसंबर वर्ष 2018 के बीच धनबाद में हुई। इनमें ज्यादातर बाइक सवार थे। 
    • 90 प्रतिशत हादसे में घायल बाइक सवारों ने हेलमेट नहीं पहना था। हादसे में उन्हें हेड इंज्युरी हुई। 

  3. दुर्घटना में हो गई युवक की मौत प्लास्टिक लेकर शव लेने पहुंचा पिता

    सिंदरी 12 नंबर एफडी कालोनी के 70 वर्षीय विनोद बाउरी अपने 17 साल के बेटे चंदन बाउरी का शव लेने प्लास्टिक लेकर पहुंचे थे। बेटे का शव पीएमसीएच के मॉर्चरी में रखा हुआ था। चंदन की मौत बुधवार की रात एक सड़क हादसे में हुई थी। वह तीन दोस्तों के साथ बाइक से श्रद्ध में सम्मिलित होने जा रहा था। सिंदरी में दो बाइकों में टक्कर हो गई। जिसमें गंभीर रूप से जख्मी चंदन और राजन की मौत हो गई। विनोद बेटे की मौत के बाद रात भर नहीं सोए। सुबह प्लास्टिक लेकर अस्पताल पहुंचे तो मृत बेटे के चेहरे को देख उनके आंखों से आंसू रूकने का नाम नहीं ले रहा था। विनोद बताते हैं कि उसने हेलमेट नहीं पहना था। दुर्घटना में चोट बहुत आयी। जान नहीं बच सकी। उन्हें बेटे के कंधे पर जाना था, आज वे बूढ़े कंधों पर उसे श्मशान ले जाने आए हैं। 

  4. दुर्घटना के बाद से बेटा कोमा में पिता बोले, हेलमेट पहना होता तो...

    मुर्गाबनी के बांके मरांडी को समझा में नहीं आ रहा है कि 26 वर्षीय बेटा शिशु मरांडी को लेकर कहां जाएं। ऑटो से टकराने के बाद गंभीर रूप से जख्मी शिशु को अभी तक होश नहीं आया है। गंभीर स्थिति देखते हुए चिकित्सकों ने बुधवार को उसे रांची रिम्स रेफर कर दिया। पिता का कहना है कि शिशु घर का एक मात्र कमाऊ सदस्य है। एक साल पहले उसकी शादी हुई थी। 3 फरवरी को काम करने के लिए घर से निकला था। रास्ते में ऑटो से टकरा गया। गंभीर अवस्था में उसे पीएमसीएच में भर्ती कराया गया। शिशु के सर में गंभीर चोट है। रीढ़ की हड्डी में काफी चोट है। घायल होने के बाद उसे अभी तक होश नहीं आया है। बांके कहते हैं कि घर में हेलमेट रखा हुआ था। ड्यूटी जाने के दौरान बेटा उसे साथ नहीं ले गया। काश... बेटा हेलमेट पहना होता। आज यह दिन नहीं देखना पड़ता।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना