पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मलेशिया जेल में बंद सरिया के विकास व लोकनाथ की रिहाई के लिए विधायक ने सीएम को लिखा पत्र

7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाकपा माले विधायक विनोद कुमार सिंह। (फाइल फोटो)
  • विकास महतो वीजा अवधि समाप्त होने के कारण बीते एक माह से मलेशिया जेल में बंद है

गिरिडीह. मलेशिया जेल में बंद सरिया प्रखंड के श्रीरामडीह निवासी विकास कुमार महतो और मलेशिया में ही नजरबंद सरिया के लुतियानो निवासी लोकनाथ महतो की अविलंब रिहाई के लिए भाकपा माले विधायक विनोद कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है। उन्होंने तत्काल हस्तक्षेप कर दोनों प्रवासी मजदूरों को भारत वापसी की बात कही है। पत्र में लिखा है कि जहां विकास महतो वीजा अवधि समाप्त होने के कारण बीते एक माह से मलेशिया जेल में बंद है। वहीं लोकनाथ महतो को वीजा का जुर्माना नहीं जमा करने के कारण मलेशिया में ही नजरबंद किया गया है। इसपर तत्काल पहल कर उक्त दोनों प्रवासी मजदूरों को भारत वापस लाए जाने का अनुरोध किया गया है। 


सरिया के श्रीरामडीह निवासी गुरुचरण महतो का पुत्र विकास कुमार महतो मजदूरी करने के लिए मलेशिया गया हुआ था। एजेंट द्वारा उसे धोखे में रखकर टूरिस्ट वीजा पर फरवरी 2017 में ले जाया गया था। उसके वीजा की अवधि समाप्त हो जाने के कारण मलेशिया की पुलिस ने उन्हें 29 अक्टूबर, 2019 को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इस घटना से पूरा परिवार सहमा हुआ है। उन्होंने सरकार से मलेशिया जेल में बंद प्रवासी मजदूर विकास कुमार महतो को अविलंब रिहा करवा कर वतन वापसी की मांग दुहराई है। अपने पति विकास कुमार महतो की रिहाई की मांग को लेकर उसकी पत्नी बसंती देवी ने विधायक विनोद कुमार सिंह से गुहार लगाई थी। जबकि दूसरा मामला सरिया थाना क्षेत्र के लुतियानो निवासी बाबूलाल महतो के पुत्र लोकनाथ महतो का है जो बीते एक साल से मलेशिया में फंसा है। 

तीन महीने तक नहीं मिला वेतन, घर जाने की इच्छा जताई तो जब्त किया पासपोर्ट
अब वह घर आने की कोशिश कर रहा है किंतु रुपया, पासपोर्ट और वीजा नहीं होने की वजह से नहीं आ पा रहा है। जिस कंपनी में वह काम करता था उसके कंपनी के लोगों ने पासपोर्ट भी जब्त कर लिया है। परिवार वालों ने उनके वतन वापसी की गुहार लगाई है। लोकनाथ की पत्नी पेमिया देवी के अनुसार बगोदर थाना क्षेत्र के माहुरी के रहने वाले उमेश महतो के माध्यम से 2 जनवरी, 2018 को वे मलेशिया गए थे। तीन महीने तक वेतन नहीं मिलने के बाद वह घर आने की इच्छा जाहिर की तो कंपनी वाले लोगों ने उनका पासपोर्ट जब्त कर लिया। जब उन्हें अपनी जान का खतरा महसूस होने लगा तो उन्होंने लरको नामक उक्त कंपनी छोड़ दिया। लोकनाथ ने दूरभाष पर बताया कि वह किसी तरह उस लरको नामक कंपनी से भाग कर दूसरे जगह छुप-छुप कर काम कर रहा था और अब वो वहां नजरबंद हैं। पिता बाबूलाल महतो ने बताया कि उनका बेटा एक साल पहले जनवरी 2018 में मलेशिया गया था और तब से घर नहीं लौटा है। वह प्रशासन और सरकार से बेटे को सकुशल घर लौटने में सहयोग की मांग कर रहे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए उपलब्धियां ला रहा है। उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। आज कुछ समय स्वयं के लिए भी व्यतीत करें। आत्म अवलोकन करने से आपको बहुत अधिक...

और पढ़ें