कार्रवाई / लाइसेंसी दुकान की आड़ में चल रही थी फैक्ट्री 21 लाख की नकली शराब जब्त, एक गिरफ्तार



कार्रवाई के दौरान पुलिस की टीम। कार्रवाई के दौरान पुलिस की टीम।
X
कार्रवाई के दौरान पुलिस की टीम।कार्रवाई के दौरान पुलिस की टीम।

  • भारी मात्रा में शराब बनाने का सामान बरामद, बिहार में होती थी सप्लाई

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 11:55 AM IST

गिरिडीह. लाईसेंसी शराब दुकान की आड़ में गिरिडीह जिले में बड़े पैमाने पर नकली शराब का कारोबार चल रहा है। घोड़थंबा ओपी के बदडीहा गांव में इस गोरखधंधे का खुलासा हुआ है, जिसमें करीब 21 लाख की नकली शराब बरामद की गई है। लाईसेंसी ठेकेदार राजकुमार साव बिहार के जमुई जिले का रहनेवाला है। उसके नाम से खोरीमहुआ अनुमंडल क्षेत्र के घोड़थम्बा, खोरीमहुआ, डोरंडा व कोदम्बरी में शराब की लाइसेंसी दुकान है। इस कारोबार में धनवार का सुनील साव पार्टनर है, जिसके घर में करीब आठ माह से नकली शराब की फैक्ट्री चल रही थी। 

 

हर माह 75 लाख से अधिक की तैयार होती थी नकली शराब
छापेमारी में यह भी खुलासा हुआ कि सुनील साव के घर में हर माह 75 लाख से अधिक की नकली शराब तैयार होती थी। यानी 8 माह में 6 करोड़ कीमत की नकली शराब का कारोबार धंधेबाजों ने कर लिया था। जब गुरुवार को रात 12 बजे छापेमारी हुई तो सुनील साव के घर में न सिर्फ नकली शराब की फैक्ट्री का उद्भेदन हुआ बल्कि 560 कार्टन में भरी 21 लाख कीमत की नकली शराब के साथ बड़े पैमाने पर स्प्रिट, केमिकल, खाली बोतल, पंजाब व अरुणाचल प्रदेश का रैपर, कॉर्क आदि बरामद हुआ। हालांकि छापामारी के क्रम में सरगना सुनील साव भागने में सफल रहा, लेकिन वहां कार्यरत एक कर्मी पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस के समक्ष उसने राजकुमार साव व सुनील साव की पार्टनरशिप के खुलासे के साथ यह भी उद्भेदन किया है कि हर माह कितनी शराब बनती थी और कैसे सरकारी दुकानों में खपती है।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना