• Home
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • रमेश हत्याकांड में सात आरोपी हिरासत में, घायल मुन्ना की इलाज के दौरान मौत
--Advertisement--

रमेश हत्याकांड में सात आरोपी हिरासत में, घायल मुन्ना की इलाज के दौरान मौत

रमेश हरि हत्याकांड में त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस ने सात लोगों को मंगलवार देर रात को गिरफ्तार कर लिया है।...

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 02:20 AM IST
रमेश हरि हत्याकांड में त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस ने सात लोगों को मंगलवार देर रात को गिरफ्तार कर लिया है। मामले का मुख्य अभियुक्त विजय मंडल सहित अन्य की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। पुलिस ने घटना के वक्त रमेश हरि के साथ मौजूद राजेंद्र यादव एवं टेंपो चालक सत्येंद्र यादव की भूमिका को संदिग्ध मानते हुए दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। उनकी निशानदेही पर ही मोहनपुर थाना क्षेत्र के निवासी घटना में शूटर की भूमिका निभाने वाले मोहन यादव को मंगलवार की रात को गिरफ्तार किया गया। साथ ही राजेंद्र यादव, सत्येंद्र यादव से पूछताछ के दौरान के निशानदेही पर एवं मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर मामले के अभियुक्त पूर्व पार्षद सचिन मिश्रा, शशि सिंह, छोटू शर्मा, उमेर खान को हावड़ा की याड से गिरफ्तार किया गया। मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर उनके लोकेशन का पता लगाकर नगर थाना प्रभारी विनोद कुमार की टीम मंगलवार को ही कोलकाता रवाना हो गए थे एवं कोलकाता पुलिस की मदद से हावड़ा याड से सभी को देर रात गिरफ्तार किया गया। हालांकि इस मामले में पुलिस कुछ भी बताने से इंकार कर रही है, पुलिस का कहना है कि अभी जांच चल रही है। वहीं बताया जा रहा है कि घटना में घायल रमेश हरि के दोस्त मुन्ना सिंह की भी रांची स्थित रिम्स में इलाज के दौरान मौत हो गई है। बुधवार सुबह पुलिस की मौजूदगी में मृतक रमेश का अंतिम संस्कार कराया गया। बैजनाथपुर चौक की स्थिति रमेश के आवास से शवयात्रा निकाली गई, जिसमें सैकड़ों लोग शामिल हुए। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात थे। शिव गंगा तट स्थित श्मशान घाट पर शव का अंतिम संस्कार किया गया।

इलाके में धारा 144 लागू

देवघर| मंगलवार को रमेश की हत्या के बाद बैजनाथपुर चौक के पास तोड़फोड़ की स्थिति के बाद तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए बुधवार को अनुमंडल पदाधिकारी रामनिवास यादव ने धारा 144 लागू कर दिया है। जिससे विधि व्यवस्था बनी रहे। इस दौरान उक्त स्थल के आसपास एक जगह पर पांच या पांच से अधिक व्यक्ति एकत्र नहीं होने, किसी हथियार के साथ नहीं जाने आदि की अपील की गई है। अधिकारियों ने बताया मामला शांत होने तक धारा 144 लागू रहेगा।