• Home
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • जेबीसीसीआई 10: मानकीकरण कमिटी की बैठक पर संशय
--Advertisement--

जेबीसीसीआई 10: मानकीकरण कमिटी की बैठक पर संशय

जेबीसीसीआई 10 की मानकीकरण कमिटी की 13 जुलाई को कोलकाता में आहूत बैठक पर संशय के बादल मंडरा रहे हैं। एटक और सीटू कोल...

Danik Bhaskar | Jul 09, 2018, 02:35 AM IST
जेबीसीसीआई 10 की मानकीकरण कमिटी की 13 जुलाई को कोलकाता में आहूत बैठक पर संशय के बादल मंडरा रहे हैं। एटक और सीटू कोल इंडिया पर एपेक्स कमेटी के निर्णयों को बदलने पर आरोप लगाते हुए बैठक में शामिल होने से इनकार कर रहे हैं। वहीं, बीएमएस और एचएमएस हर हाल में बैठक चाहते हैं। एचएमएस दो दिनों के लिए बैठक बुलाने की मांग कर रहा है। उसने तो बैठक टलने पर बीएमएस के साथ मिलकर कोयला उद्योग में देशव्यापी हड़ताल करने की चेतावनी भी दी है। बीएमएस और एचएमएस ने एटक के रमेंद्र कुमार पर मजदूरों के हितों से खिलवाड़ करने का आरोप भी लगाया है। उधर, रमेंद्र कुमार ने कोल इंडिया पर एपेक्स बॉडी की 4 मार्च को हुई बैठक में लिए गए निर्णयों को बदलने का आरोप लगाया है।

बैठक टलने पर होगी हड़ताल : पांडेय

एचएमएस के नाथूलाल पांडेय ने कहा है कि 13 जुलाई को आहूत बैठक हर हाल में होनी चाहिए। कोल इंडिया प्रबंधन से दो दिनों की बैठक रखने का आग्रह किया है। मजदूरों के बहुत सारे मुद्दे हैं, जिन पर एक दिन की बैठक में चर्चा संभव नहीं है। बैठक टलने की स्थिति में एचएमएस और बीएमएस मिलकर कोयला उद्योग में हड़ताल का नोटिस देगा। प्रस्तावित बैठक में एटक के रमेंद्र कुमार और सीटू के डीडी रामानंदन के शामिल नहीं होने के सवाल पर कहा - रमेंद्र ने एपेक्स बॉडी की बैठक में लिए गए निर्णय पर हस्ताक्षर किए थे और अब पीछे भाग रहे हैं। ऐसा नहीं चलेगा।

मजदूर हित में बैठक आवश्यक : राय

बीएमएस के डाॅ बी के राय का मानना है कि मजदूरों के हित में मानकीकरण कमिटी की बैठक तय तारीख पर होनी चाहिए।एचएमएस को बैठक की जगह (कोलकाता) से पेरशानी है। नाथूलाल पांडेय चाहते हैं कि यह बैठक सिंगरौली में रखी जाए। उन्होंने बैठक में शामिल होकर ही हम अपनी बातों को रख सकते हैं। मानकीकरण कमिटी की बैठक में मजदूरों से जुड़े मुद्दों को प्रबंधन के समक्ष रखते हुए उनकी समस्याओं का समाधान कराया जाएगा।

बैठक का बहिष्कार करेंगे : रमेंद्र

एटक के रमेंद्र ने कहा है कि वे 13 को प्रस्तावित बैठक का बहिष्कार करेंगे। कोल इंडिया प्रबंधन ने एपेक्स बॉडी की बैठक में लिए गए निर्णय को बदल दिया है। कोल इंडिया प्रबंधन की मनमानी नहीं चलेगी। वह पहले अपनी गलती सुधारे, उसके बाद ही इस बारे में कुछ बात हो सकेगी।