• Home
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • अब डीएमएफटी फंड से बिछेगी नई पाइप लाइन
--Advertisement--

अब डीएमएफटी फंड से बिछेगी नई पाइप लाइन

दिशा की बैठक मंगलवार को सांसद पशुपतिनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई। बैठक में शहरी जलापूर्ति व्यवस्था पर चर्चा...

Danik Bhaskar | Jul 11, 2018, 03:05 AM IST
दिशा की बैठक मंगलवार को सांसद पशुपतिनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई। बैठक में शहरी जलापूर्ति व्यवस्था पर चर्चा हुई। विधायक राज सिन्हा ने शहर की जलापूर्ति व्यवस्था की जिम्मेवारी को लेकर सवाल उठाया। पूछा कि जलापूर्ति किसके जिम्मे रहेगी? पीएचईडी जलापूर्ति देखेगा या फिर निगम...? अपर नगर आयुक्त महेश कुमार संथालिया ने कहा कि इस पर सरकार का आदेश आ गया है। जलापूर्ति पीएचईडी के पास ही रहेगी। बैठक में सरकार के इस आदेश पर मुहर लगा दिया गया। विधायक राज सिन्हा ने कहा कि कई इलाकों में पाइप लाइन नहीं है। पीएचईडी विभाग और नगर निगम एक-दूसरे पर फेंका-फेंकी करते है। विधायक की बातों को सांसद ने गंभीरता से लिया। डीसी से पूछा कि इस समस्या का समाधान कैसे होगा? डीसी ने कहा कि नई पाइप लाइन बिछाने के लिए डीएमएफटी (डिस्ट्रिक मिनरल फाउंडेशन ट्रस्ट) फंस से राशि उपलब्ध करायी जाएगी। उन्होंने कार्यपालक अभियंता से उन इलाकों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया, जहां अभी तक पाइप नहीं बिछा है। अपर नगर आयुक्त ने बताया कि पार्षदों से भी मिसिंग पाइप लाइन की सूची मांगी गई थी। वह सूची भी पेयजल विभाग को उपलब्ध करा दी गई है।

अफसर अपनी जिम्मेवारी गंभीरता से निभाएं: सांसद

बैठक में सांसद ने पीएचईडी के कार्यपालक अभियंता को निर्देश दिया कि वे अपनी जिम्मेवारियों को गंभीरता से निभाएं। सांसद ने शहरी क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना और शौचालय निर्माण की समीक्षा करते हुए अपर नगर आयुक्त को आवास योजना की पूरी रिपोर्ट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

नहीं की गई डोभा की जांच

बैठक में एक बार फिर ग्रामीण क्षेत्रों में बने डोभा का मामला उठा। 25 मार्च को हुई बैठक में सांसद ने प्रमुखों को ही इसकी जांच कर रिपोर्ट देने को कहा था। मंगलवार को सांसद ने इस संबंध में पूछा तो किसी के पास इसका जवाब नहीं था। सांसद ने डीसी से ही जांच कराने को कहा।

प्रमुख पर डीसी भड़के, कहा- चुपचाप बैठिए

बैठक में बलियापुर प्रखंड के प्रमुख द्वारा घटिया सड़क निर्माण की शिकायत पर उपायुक्त भड़क गए। उन्होंने कहा कि अभी निर्माण शुरू भी नहीं हुआ है और आपको पता चल गया। आपके पति काम बंद कराने के लिए पहुंच जा रहे हैं और आप घटिया निर्माण की बात कर रही है। चुपचाप बैठिए।