Hindi News »Jharkhand »Dhanbad» गया के साइबर अपराधियों ने 150 के एटीएम कार्ड बदल बैंक खातों से Rs.50 लाख उड़ाए

गया के साइबर अपराधियों ने 150 के एटीएम कार्ड बदल बैंक खातों से Rs.50 लाख उड़ाए

बेकारबांध से सोमवार की रात पकड़ा गया झारखंड पुलिस का बर्खास्त जवान संजय कुमार और रंजीत कुमार एटीएम कार्ड बदलने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 12, 2018, 04:10 AM IST

  • गया के साइबर अपराधियों ने 150 के एटीएम कार्ड बदल बैंक खातों से Rs.50 लाख उड़ाए
    +1और स्लाइड देखें
    बेकारबांध से सोमवार की रात पकड़ा गया झारखंड पुलिस का बर्खास्त जवान संजय कुमार और रंजीत कुमार एटीएम कार्ड बदलने वाले गिरोह का सदस्य हैं। भीड़ का फायदा उठा कर कार से भाग गया का इमरान अालम गिरोह का सरगना है। इमरान के साथ विवेक भी मौके से भाग निकला था। यह जानकारी बुधवार को अपने कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में सिटी एसपी पीयूष पांडेय ने दी। सिटी एसपी ने बताया कि पकड़े जाने पर धनबाद थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह के द्वारा पूछताछ में यह खुलासा हुआ है। गिरोह का काम एटीएम कार्ड का उपयोग नहीं कर पाने वालों को झांसा देकर उनका कार्ड बदल लेना था। इसके बाद वे कार्ड से पैसे की निकासी करते थे। अब तक गिरोह के सदस्यों ने 150 लोगों को अपना शिकार बनाया है और उनके बैंक खाते से 50 लाख की निकासी की है। जिस कार से दोनों अपराधी पकड़ाए हैं, उस कार में 33 विभिन्न बैंकों के 33 एटीएम कार्ड मिले हैं। पुलिस उन सभी एटीएम के कार्डों की जांच कर रही है। एसपी ने बताया कि गिरोह रांची और धनबाद में सक्रिय था। गया पुलिस से संपर्क कर चारों अपराधियों के बारे में जानकारी की मांग की गई। गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

    साइबर क्राइम में खुलासे की जानकारी देते सिटी एसपी।

    क्राइम रिपोर्टर | धनबाद

    बेकारबांध से सोमवार की रात पकड़ा गया झारखंड पुलिस का बर्खास्त जवान संजय कुमार और रंजीत कुमार एटीएम कार्ड बदलने वाले गिरोह का सदस्य हैं। भीड़ का फायदा उठा कर कार से भाग गया का इमरान अालम गिरोह का सरगना है। इमरान के साथ विवेक भी मौके से भाग निकला था। यह जानकारी बुधवार को अपने कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में सिटी एसपी पीयूष पांडेय ने दी। सिटी एसपी ने बताया कि पकड़े जाने पर धनबाद थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह के द्वारा पूछताछ में यह खुलासा हुआ है। गिरोह का काम एटीएम कार्ड का उपयोग नहीं कर पाने वालों को झांसा देकर उनका कार्ड बदल लेना था। इसके बाद वे कार्ड से पैसे की निकासी करते थे। अब तक गिरोह के सदस्यों ने 150 लोगों को अपना शिकार बनाया है और उनके बैंक खाते से 50 लाख की निकासी की है। जिस कार से दोनों अपराधी पकड़ाए हैं, उस कार में 33 विभिन्न बैंकों के 33 एटीएम कार्ड मिले हैं। पुलिस उन सभी एटीएम के कार्डों की जांच कर रही है। एसपी ने बताया कि गिरोह रांची और धनबाद में सक्रिय था। गया पुलिस से संपर्क कर चारों अपराधियों के बारे में जानकारी की मांग की गई। गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

    बरामद एटीएम कार्ड।

    क्राइम रिपोर्टर | धनबाद

    बेकारबांध से सोमवार की रात पकड़ा गया झारखंड पुलिस का बर्खास्त जवान संजय कुमार और रंजीत कुमार एटीएम कार्ड बदलने वाले गिरोह का सदस्य हैं। भीड़ का फायदा उठा कर कार से भाग गया का इमरान अालम गिरोह का सरगना है। इमरान के साथ विवेक भी मौके से भाग निकला था। यह जानकारी बुधवार को अपने कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में सिटी एसपी पीयूष पांडेय ने दी। सिटी एसपी ने बताया कि पकड़े जाने पर धनबाद थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह के द्वारा पूछताछ में यह खुलासा हुआ है। गिरोह का काम एटीएम कार्ड का उपयोग नहीं कर पाने वालों को झांसा देकर उनका कार्ड बदल लेना था। इसके बाद वे कार्ड से पैसे की निकासी करते थे। अब तक गिरोह के सदस्यों ने 150 लोगों को अपना शिकार बनाया है और उनके बैंक खाते से 50 लाख की निकासी की है। जिस कार से दोनों अपराधी पकड़ाए हैं, उस कार में 33 विभिन्न बैंकों के 33 एटीएम कार्ड मिले हैं। पुलिस उन सभी एटीएम के कार्डों की जांच कर रही है। एसपी ने बताया कि गिरोह रांची और धनबाद में सक्रिय था। गया पुलिस से संपर्क कर चारों अपराधियों के बारे में जानकारी की मांग की गई। गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

  • गया के साइबर अपराधियों ने 150 के एटीएम कार्ड बदल बैंक खातों से Rs.50 लाख उड़ाए
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhanbad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×