• Home
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • झामुमो बताए धर्मांतरण उचित है या नहीं : भाजपा
--Advertisement--

झामुमो बताए धर्मांतरण उचित है या नहीं : भाजपा

दुमका जिले के धर्मांतरण की मंशा से गांव पहुंचे धर्म प्रचारकों पर कानूनी कार्रवाई तय होने के बाद सोमवार को दुमका...

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 02:25 AM IST
दुमका जिले के धर्मांतरण की मंशा से गांव पहुंचे धर्म प्रचारकों पर कानूनी कार्रवाई तय होने के बाद सोमवार को दुमका परिसदन में भाजपा के अनुसूचित जनजाति मोर्चा संथाल परगना के सह प्रभारी रमेश हांसदा ने कहा कि धर्मांतरण के मुद्दे पर झामुमो नेता हेमंत सोरेन को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। शिकारीपाड़ा प्रखंड के फूलपहाड़ी गांव में जबरन धर्म परिवर्तन कराने के मकसद से पहुंचे 16 ईसाई प्रचारकों की गिरफ्तारी के बाद झामुमो की चुप्पी कई सवाल खड़े कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के नाम पर वोट बैंक की राजनीति करने वाले हेमंत सोरेन को खामोशी तोड़कर जनता को यह बताना चाहिए कि लालच देकर आदिवासियों का धर्म परिवर्तन कराया जाना उचित है या अनुचित है। रमेश सोमवार को स्थानीय परिसदन में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि झामुमो आदिवासियों का कभी हितैषी नहीं रहा है। महज वोट बैंक बनाकर आदिवासी समुदाय को बरगलाने का काम किया है। यही कारण है कि झामुमो के नेता अमीर और झामुमो कार्यकर्ता दाने-दाने को मोहताज हैं।

रमेश ने भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल पर भी झामुमो पर प्रहार करते हुए कहा कि जनता को बरगलाने के बजाए यह बताना चाहिए कि भाजपा के शासन काल में किसकी जमीन जबरन छीनी या लूटी गई है। रमेश ने कहा कि जब शिबू सोरेन मुख्यमंत्री थे तो दुमका के काठीकुंड में एक कंपनी के लिए भूमि अधिग्रहण को लेकर आदिवासियों पर गोलियां बरसाई गई थी, लेकिन भाजपा के शासन में अब तक ऐसी कोई घटना हुई है। कहा कि झारखंड में रांची, सिमडेगा, तोरपा, खूंटी, पाकुड़, नाला, दुमका समेत कई जिले धर्मांतरण की जद में है जिसपर अब आदिवासी समुदाय को आगे आकर मुखर होने की जरूरत है। मौके पर भाजपा के जिला अध्यक्ष निवास मंडल, सुरेश मुर्मू, कालेश्वर मुर्मू, विशु टुडू, विमल मरांडी, सोनी हेम्ब्रम, परितोष सोरेन आदि थे।