Hindi News »Jharkhand »Dhanbad» आपसी रंजिश में अधेड़ की हत्या, सड़क जाम

आपसी रंजिश में अधेड़ की हत्या, सड़क जाम

जिले के रामगढ़ थाना क्षेत्र अंतर्गत गम्हरिया व बड़ी रणबहियार गांव के बीच जोरिया पर स्थित पुल के पास मंगलवार की शाम...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:35 AM IST

जिले के रामगढ़ थाना क्षेत्र अंतर्गत गम्हरिया व बड़ी रणबहियार गांव के बीच जोरिया पर स्थित पुल के पास मंगलवार की शाम सात बजे बड़ीरणबहियार गांव के 55 वर्षीय सुकुमार मंडल की धारदार हथियार से हमला किया गया और फिर पत्थर मारकर हत्या कर दी गई। हत्यारों ने बेटे तापस कुमार को भी घायल कर दिया। किसी प्रकार भागकर जान बचायी। मोबाइल पर सूचना मिलने के बाद जब तक लोग पहुंचे तब तक हत्यारे फरार हो चुके थे। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर रात को ही पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। स्वास्थ्य केंद्र में इलाजरत तापस के बयान पर बड़ी रणबहियार गांव के अपराधी इंग्लिश लाल हेम्ब्रम समेत चार अन्य अज्ञात अपराधी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है। शव वापस लाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने बुधवार को छह घंटे तक मार्ग को जाम कर दिया।

जानकारी के अनुसार सुकुमार मंडल, पुत्र तापस मंडल के साथ मंगलवार की शाम दो बाइक से गम्हरिया हाट से किराना का दुकान बंद कर घर बड़ी रणबहियार आ रहे थे। मोचीखमार तथा बड़ी रणबहियार गांव के पास पुलिया पर जैसे ही पहुंचे पहले से घात लगाये अपराधी इंग्लिश लाल हेम्ब्रम समेत चार अन्य ने पिता पर पीछे से तलवार से प्रहार कर दिया जिससे वह मोटर साइकिल से गिर गये। इसके बाद अपराधी ने बेटे पर भी प्रहार किया जिसके बाद वह भागने लगे। सुकुमार े गिरने पर अपराधी ने पत्थर से उनके सिर पर प्रहार कर दिया। जिससे मौके पर ही मौत हो गयी। रात में ही कई ग्रामीण थाना पहुंचे तथा अपराधी की गिरफ्तारी की मांग की।

पुलिस शव को रात में ही पोस्टमार्टम हेतु दुमका भेजना चाहती थी लेकिन गांव वाले ने इसका विरोध किया कि शव को सुबह भेजा जाए। इसके बाद गांव वाले वापस बड़ी रणबहियार चले गये वहीं पुलिस ने शव को दुमका भेज दिया। बुधवार की सुबह जब ग्रामीणों को इस बात की जानकारी हुई तो बड़ी रणबहियार गांव के ग्रामीण उग्र हो गये तथा सैकड़ों की संख्या में बाजार पहुंचकर सड़क जाम कर शव की मांग करने लगे। सड़क जाम की सूचना मिलने पर पहले पहुंचे काठीकुंड पुलिस निरीक्षक विवेकानंद के साथ ग्रामीणों ने धक्का-मुक्की भी की। इसके बाद पुलिस उपाधीक्षक रोशन गुडि़या भी पहुंचे लेकिन ग्रामीण उनकी बात भी मानने को तैयार नहीं हुए। साइबर पुलिस उपाधीक्षक राम समद भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। इसके बाद लगभग 12.30 बजे पुलिस उपाधीक्षक अशोक कुमार भी मौके पर पहुंचे तब ग्रामीणों ने लिखित आश्वासन की मांग करते हुए जाम समाप्त करने पर अपनी सहमति जतायी। ग्रामीणों ने कहा कि पुलिस तापस के परिवार को सुरक्षा प्रदान करते हुए अभियुक्त को 24 घंटा के अंदर गिरफ्तार करें। थाना प्रभारी संजय कुमार की कार्यशैली पर भी नाराजगी जताते हुए निलंबित करने की मांग कर रहे थे। ग्रामीणों में खासा आक्रोश देखने को मिला।

एक वर्ष पूर्व हुई थी मारपीट

बड़ी रणबहियार गांव के सुकुमार मंडल तथा गांव के अपराधी इंग्लिश लाल हेम्ब्रम का घर एक दूसरे के आमने सामने है। एक वर्ष पूर्व दोनों के बीच कचरा जलाने को लेकर हल्की मारपीट हुई थी। इस मामला में दोनों पक्ष की ओर से रामगढ़ थाना में प्राथमिकी भी दर्ज करायी गयी थी। लेकिन पुलिस ने इंग्लिश लाल हेम्ब्रम के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। उसी वक्त से इंग्लिश सुकुमार व उसके परिवार को अंजाम भुगतने की धमकी दे रहा था। इंग्लिश के खिलाफ रामगढ़ थाना में कई आपराधिक मामला दर्ज हैं। सूत्रों की मानें तो इंग्लिश इन दिनों अपराध की दुनिया में अपना कदम फैला चुका है। वह अपराध का लंबा गिरोह बना कर कई जगह पर अपराध को अंजाम देता रहा हैं। वह छह साल से पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

क्या कहते हैं डीएसपी

अपराधी की गिरफ्तारी के लगातार छापामारी की जा रही है। जल्द ही इस घटना में शामिल अभियुक्त को पकड़ लिया जाएगा। किसी भी कीमत पर अपराधी बख्शे नहीं जाएंगे।'' रोशन गुडि़या, पुलिस उपाधीक्षक

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhanbad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×