• Home
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • थाने में बातचीत के दौरान पत्थर फेंके जाने से बिगड़ा माहौल, हुआ लाठी चार्ज
--Advertisement--

थाने में बातचीत के दौरान पत्थर फेंके जाने से बिगड़ा माहौल, हुआ लाठी चार्ज

तेतुलमारी में बच्ची के साथ बुधवार को ज्यादती से आक्रोशित विभिन्न संगठनों ने गुरुवार को आक्रोश रैली निकाली। इसके...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:40 AM IST
तेतुलमारी में बच्ची के साथ बुधवार को ज्यादती से आक्रोशित विभिन्न संगठनों ने गुरुवार को आक्रोश रैली निकाली। इसके बाद थाने में पुलिस से बातचीत चल ही रही थी कि किसी ने पत्थर फेंक दिया। इससे मामला और बिगड़ा गया।

पुलिस ने भीड़ पर काबू करने के लिए लाठी चार्ज कर दिया। इस दौरान अंधेरे का फायदा उठाते हुए उपद्रवियों ने तेतुलमारी थाने पर पत्थरबाजी कर दी। कई वाहनों के शीशे फोड़ डाले। रोशनी आने के बाद पुलिस ने उपद्रवियों की पिटाई शुरू कर दी। पत्थरबाजी में पुलिस के पांच जवान जख्मी हाे गए हैं। लाठी चार्ज में घायलों की जानकारी नहीं मिल पाई।

मौके पर वाहनों का फूटा शीशा और बड़ी संख्या में चप्पल बिखरे पड़े मिले। हंगामे की खबर पता चलने पर राजगंज, अंगारपथरा, ईस्ट बसुरिया और रामकनाली की पुलिस मौके पर पहुंच गई। प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाकर सिजुआ-राजगंज मार्ग को जाम कर दिया।

थाने पर पथराव में पांच पुलिसकर्मी घाायल

उपद्रव के बााद तेतुलमारी थाने के पास खड़े पुलिस कर्मी और अन्य लोग।

उपद्रव थमने के बाद थाने के बाहर सड़क पर छूटे उपद्रवियों के चप्पल।

जानकारी के मुताबिक, ज्यादती के विरोध में जीरो सीम से रैली निकाली गई थी, जो पांडेयडीह, सुभाष चौक होते हुए थाने पहुंची थी। आरोपी को फांसी देने की मांग के साथ थाने के सामने उसका पुतला दहन किया गया। थाने में पहले से मौजूद बाघमारा एसडीपीअो बहामन टूटी ने प्रदर्शनकारियों को बातचीत के लिए बुलाया। उसी दौरान भीड़ में से किसी ने पुलिस पर पत्थर फेंक दिया, जिससे मामला बिगड़ गया।

पुलिस ने पूछताछ कर आरोपी को जेल भेजा

बच्ची से ज्यादती के मामले में तेतुलमारी थाने में गुरुवार को एफआईअार दर्ज की गई। फिर थानेदार एवं बाघमारा डीएसपी ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी शमशुल हक को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया। पुलिस ने पीड़िता का धारा 164 के तहत न्यायालय में बयान दर्ज कराया। साथ ही उसका मेडिकल भी कराया गया। गौरतलब है कि बुधवार की दोपहर बच्ची रोते हुए अपने घर आई, तो बताया कि ऊपरी मंजिल पर रहनेवाले दादा जी ने अपने घर ले जाकर गलत काम किया।

संगठनों ने बैठक कर बनाई थी रणनीति

ज्यादती की जानकारी मिलने पर कई संगठनों के कार्यकर्ताओं ने शनि मंदिर में बैठक की थी। इसमें तय हुआ था कि आरोपी को फांसी की सजा देने की मांग की जाएगी। न्यायालय पर भरोसा जताते हुए पीड़ित परिवार को हरसंभव मदद करने का भी निर्णय लिया गया था। आक्रोश रैली में बजरंग दल, हिंदू सेना, जय भारत मंच, विश्व हिंदू सेना और अन्य संगठन के मुकेश गुप्ता, ब्रजेश पांडेय, लंबोदर चौहान, ब्रजेश शुक्ला, रितिक सिंह, राकेश कुमार, राहुल कुमार, पप्पू कुमार, मुकेश कुमार, चंदन कुमार, कुंदन कुमार, बजरंगी कुमार आदि शामिल थे। ।