• Home
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • ...जब भगवान यमराज खुले में शौच करनेवालों को ले जाते हैं यमपुरी
--Advertisement--

...जब भगवान यमराज खुले में शौच करनेवालों को ले जाते हैं यमपुरी

सिंदरी महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं की ओर से परसबनियां गांव में स्वच्छता जागरूकता के लिए बुधवार को नुक्कड़ नाटक...

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 04:40 AM IST
सिंदरी महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं की ओर से परसबनियां गांव में स्वच्छता जागरूकता के लिए बुधवार को नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया। नाटक के दौरान एसबीएसआई के सदस्य अमरनाथ तिवारी यमराज और आशिष कुमार सिंह चित्रगुप्त के किरदार में थे। अन्य स्वच्छाग्रहियों ने ग्रामीण का किरदार निभाया। इसमें वह खुले में शौच कर गंदगी फैलाते हैं। गंदगी फैलाने वाले ग्रामीणों को समझाने यमराज और चित्रगुप्त पृथ्वीलोक पर आते हैं। जहां आकर धरती पर कुछ दूर भ्रमण करने पर यमदेव के पैरों में मनुष्यों द्वारा त्यागा गया मल लग जाता है। इस पर चित्रगुप्त व्यंग मारते हुए यमराज से कहते हैं मैंने तो पहले हीं कहा था। पृथ्वीलोक पर न जाएं अब आप भी अपवित्र हो गए महाराज”। इसके बाद यमराज खुले में शौच करते ग्रामीणों को समझाते हैं की यह उचित नहीं है। गंदगी ही मनुष्यों की बीमारी का कारण है। यह कृत्य पृथ्वी लोक की सौंदर्यता को खराब कर रहा है। इस पर ग्रामीण ढिठाई से यमदेव और चित्रगुप्त का मजाक उड़ाने लगते हैं।