इन्वेस्टर मीट / मंत्री सीपी सिंह ने आईएसबीटी को लाभदायक बताया, मेयर ने निवेशकाें को किया आमंत्रित



रांची में इन्वेस्टर मीट में शामिल मंत्री, मेयर व अन्य। रांची में इन्वेस्टर मीट में शामिल मंत्री, मेयर व अन्य।
X
रांची में इन्वेस्टर मीट में शामिल मंत्री, मेयर व अन्य।रांची में इन्वेस्टर मीट में शामिल मंत्री, मेयर व अन्य।

Dainik Bhaskar

Jun 11, 2019, 11:24 AM IST

धनबाद/रांची.  शहर के बरटांड़ बस पड़ाव और गाेविंदपुर जीटी राेड स्थित पंडुकी में प्रस्तावित इंटर स्टेट बस टर्मिनल (आईएसबीटी) निर्माण की कवायद एक बार फिर से तेज हाे गई है। इसे लेकर सोमवार को रांची में नगर विकास विभाग की ओर से इन्वेस्टर मीट का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के माध्यम से निवेशकाें से आगे आने का आह्वान किया गया। धनबाद में टर्मिनल निर्माण का प्रस्ताव तीन साल पहले तैयार किया गया था। दाे बार टेंडर भी प्रकाशित हाे चुका है, लेकिन किसी इन्वेस्टर ने इसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई। इन्वेस्टर मीट इस प्रोजेक्ट को निवेशकों के समक्ष रखा गया। उन्हें बताया गया कि दाेनाें टर्मिनल का निर्माण पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड किया जाएगा।

 

आईएसबीटी का निर्माण कार्य अक्टूबर में

नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि जहां आईएसबीटी बनाने का निर्णय लिया गया, वह शहर के महंगे और महत्वपूर्ण जगह हैं, इसलिए निवेशक निर्माण कंपनियों को नुकसान नहीं होगा। धनबाद के मेयर ने निवेशकों को इसके लाभ बताएं और उन्हें धनबाद आने के लिए आमंत्रित किया। धनबाद के अलावे रांची व जमशेदपुर में बनने वाले आईएसबीटी का निर्माण कार्य अक्टूबर महीने में शुरू करने की योजना बनाई गई है। मंत्री परिषद से अनुमति व स्वीकृति के बाद अगले आदर्श आचार संहिता से पहले अक्टूबर तक तीनों शहर की आईएसबीटी के निर्माण कार्य को धरातल पर लाने का प्रयास किया जाएगा।

 

जानिए, धनबाद में कितनी लागत से बनेगी आईएसबीटी
बरटांड़ में...18 एकड़ में 266 करोड़ प्रस्तावित खर्च, 60 करोड़ बस स्टैंड के विकास पर लगेगा, 18 प्लेटफॉर्म बनेंगे।
पंडुकी में... जीटी रोड के 12.25 एकड़ में 72 करोड़ खर्च करने का प्रस्ताव, 37 करोड़ बस स्टैंड के विकास पर होगा खर्च।

 

एग्रीमेंट की समय सीमा पर निवेशकों ने पूछा सवाल
इन्वेस्टर मीट में शामिल मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल ने बताया कि बस टर्मिनल काे लेकर निवेशकाें ने एग्रीमेंट की समय सीमा पर आपत्ति जताई। इन्वेस्टराें ने इस मुद्दे काे रखा और कहा कि 30 साल की समय सीमा काफी कम है। मेयर ने बताया कि उनकी इस आपत्ति को दूर कर दिया गया। एग्रीमेंट की समय सीमा को 30 साल से बढ़ा कर 90 साल कर दिया गया।

 

निवेशकों के सवालों का जवाब दिया...
निवेशकों के समक्ष प्रजेंटेशन दिया गया। जिसमें प्रस्तावित प्रोजेक्ट में आने वाली लागत, उससे प्राप्त होने वाले राजस्व और सरकार के साथ शर्तों पर चर्चा की गई। प्रोजेक्ट लगाने के दौरान वित्तीय खर्च से संबंधित निवेशकों के सवालों का जवाब दिया गया।

 

मेयर ने कहा - उनका इन्वेस्टमेंट बेकार नहीं जाएगा
मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल ने कहा कि निवेशक धनबाद में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट का काम करना चाहते हैं, तो किसी प्रकार की समस्या नहीं होने दी जाएगी। दाेनाें स्थान प्राइम लाेकेशन है। यहां रिटर्न अच्छा मिलेगा। इन्वेस्टर मीट में सुडा डायरेक्टर अमित कुमार, डीएमए डायरेक्टर राजीव रंजन व संयुक्त सचिव एसबी अम्बष्ठ आदि मौजूद थे।


841 करोड़ आईएसबीटी पर होंगे खर्च

रांची के दुबलिया व खादगढ़ा, धनबाद के बरटांड़ व पंडुकी और जमशेदपुर के मानगो में बनने वाले आईएसबीटी में 841 करोड़ रुपए खर्च की योजना नगर विकास विभाग ने बनाई है। रांची में 425 करोड़, धनबाद में 338 करोड़ और जमशेदपुर में 78 करोड़ की लागत से निर्माण कार्य किया जाना है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना