पीएमसीएच के गायनी विभाग में बनेगी एनअाईसीयू

Dhanbad News - पीएमसीएच में अब जन्म के समय बीमार रहनेवाले बच्चाें काे तुरंत उपचार मिल सकेगा। इसके लिए स्त्री एवं प्रसव राेग...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:43 AM IST
Dhanbad News - nicu will be formed in the vocal department of pmch
पीएमसीएच में अब जन्म के समय बीमार रहनेवाले बच्चाें काे तुरंत उपचार मिल सकेगा। इसके लिए स्त्री एवं प्रसव राेग (गायनी) विभाग के पास ही नियाेनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एनअाईसीयू) बनाई जाएगी। अस्पताल काे एनअाईसीयू के लिए राशि अावंटित की जा चुकी है। गायनी विभाग काे यूनिट के लिए जगह तय करने काे कहा गया है।

एनअाईसीयू अभी गायनी से अलग दूसरे भवन में शिशु राेग विभाग में है। एेसे में प्रसव के बाद जरूरत पड़ने पर नवजात काे तुरंत इलाज नहीं मिल पाता है। दूसरे भवन में ले लाने में लगनेवाला समय कई बार नवजात के जीवन पर भी भारी पड़ जाता है। गायनी के पास एनअाईसीयू हाेने से मातृ-शिशु मृत्यु दर काे कम करने में मदद मिलेगी।

अभी गायनी से दूर दूसरे भवन में है यह यूनिट

एनअाईसीयू के लिए अस्पताल काे मिले हैं Rs.35 लाख

जानकारी के अनुसार, एनअाईसीयू के लिए पीएमसीएच काे 35 लाख रुपए अावंटित किए गए हैं। इससे नई एनअाईसीयू बनाई जाएगी। पुरानी यूनिट फिलहाल शिशु राेग विभाग में पहले की तरह चलती रहेगी। गाैरतलब है कि मातृ-शिशु मृत्यु दर काे कम करने की काेशिश में राज्य के तमाम सरकारी अस्पतालाें के गायनी विभाग काे अपग्रेड किया जा रहा है। इसी के तहत पीएमसीएच के गायनी विभाग में भी कई बदलाव किए गए हैं। अाेटी अपग्रेड हुअा है अाैर एचडीयू की सुविधा में भी इजाफा हुअा है।

जन्म के समय बीमार, जुड़वां, ट्रिपलेट का एनअाईसीयू में हाेता है इलाज

अस्पताल में प्री मेच्याेर बच्चाें की बेहतर देखभाल के लिए एनअाईसीयू की जरूरत पड़ती है। साथ ही, कम वजन वाले या जुड़वां, ट्रिपलेट अादि काे अक्सर एनआईसीयू में भर्ती करना पड़ता है। जिन शिशुओं को दिल की बीमारी, संक्रमण या कोई अन्य जन्मदोष जैसी चिकित्सीय परिस्थितियां होती हैं, उनकी देखभाल भी एनआईसीयू में की जाती है।


सिटी रिपाेर्टर | धनबाद

पीएमसीएच में अब जन्म के समय बीमार रहनेवाले बच्चाें काे तुरंत उपचार मिल सकेगा। इसके लिए स्त्री एवं प्रसव राेग (गायनी) विभाग के पास ही नियाेनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एनअाईसीयू) बनाई जाएगी। अस्पताल काे एनअाईसीयू के लिए राशि अावंटित की जा चुकी है। गायनी विभाग काे यूनिट के लिए जगह तय करने काे कहा गया है।

एनअाईसीयू अभी गायनी से अलग दूसरे भवन में शिशु राेग विभाग में है। एेसे में प्रसव के बाद जरूरत पड़ने पर नवजात काे तुरंत इलाज नहीं मिल पाता है। दूसरे भवन में ले लाने में लगनेवाला समय कई बार नवजात के जीवन पर भी भारी पड़ जाता है। गायनी के पास एनअाईसीयू हाेने से मातृ-शिशु मृत्यु दर काे कम करने में मदद मिलेगी।

X
Dhanbad News - nicu will be formed in the vocal department of pmch
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना