--Advertisement--

योजना / आईआईटी आईएसएम में प्लेसमेंट के लिए 'एक छात्र एक नौकरी' की पॉलिसी



One Student One Job Policy for Placement in IIT ISM
X
One Student One Job Policy for Placement in IIT ISM
  • एक से अधिक कंपनियों में चयन की स्थिति में पहली च्वाइस में बढ़ाया जाएगा नाम
  • हायरिंग के साथ इंटर्नशिप में भी लागू होंगे नए प्रावधान 

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2018, 12:09 PM IST

धनबाद.  आईआईटी आईएसएम प्लेसमेंट के लिए वैसे स्टूडेंट से उनकी पसंद पूछेगा, जो एक से अधिक कंपनियों की चयन प्रक्रिया में शामिल होना चाहते हैं। अगर एक स्टूडेंट का चयन एक से अधिक कंपनियों में हो जाता है, तो उनकी पहली पसंद वाली कंपनी में उनका नाम आगे बढ़ाया जाएगा। यह प्रावधान संस्थान की नई प्लेसमेंट पॉलिसी में किया गया है। यह पॉलिसी फुल टाइम हायरिंग के साथ-साथ इंटर्नशिप पर भी लागू होगी। इसमें कहा गया है कि कैरियर डेवलपमेंट सेंटर (सीडीसी) बिना किसी भेदभाव के सभी ऑफरों के लिए "एक छात्र, एक नौकरी' की पॉलिसी पर काम करेगा।  

अब तक 120 स्टूडेंट का प्लेसमेंट

  1. अगर कोई छात्र प्लेसमेंट सेशन के दौरान कंपनी के एग्जिक्यूटिव से सीधा संपर्क बनाता है, तो उसे अगले तीन महीने तक हायरिंग प्रोसेस में शामिल नहीं होने दिया जाएगा। गौरतलब है कि अब तक 120 स्टूडेंट का प्लेसमेंट और 150 से अधिक का इंटर्नशिप के लिए चयन किया जा चुका है। 

  2. महंगा पड़ेगा ऑफर ठुकराना; आगामी चयन प्रक्रिया में शामिल नहीं हो सकेगा

    फुल टाइम हायरिंग प्रोसेस में चयनित स्टूडेंट्स को कंपनी का ऑफर ठुकराना महंगा पड़ेगा। ऐसा करने पर वह आगामी चयन प्रक्रिया में शामिल नहीं हो सकेगा। इंटर्नशिप ऑफर भी एक बार ठुकराने पर फिर उसकी प्रक्रिया में शामिल नहीं हो सकेगा। प्री प्लेसमेंट ऑफर में चयनित फाइनल इयर का छात्र अगली प्लेसमेंट प्रक्रिया में शामिल नहीं होगा। हालांकि ऑनलाइन कांटेस्ट में इंटर्नशिप ऑफर स्वीकार करने वाले को कैंपस इंटर्नशिप प्रोसेस में भी मौका मिलेगा। 

  3. ...तो नहीं मिलेगा इंटर्नशिप का मौका

    अपने पसंद की विशेष कंपनी के हायरिंग प्रोसेस में कोई छात्र अगर शामिल होना नहीं चाहते हैं, तो उन्हें 3 दिन पहले सीडीसी को सूचना देनी होगी। इंटर्नशिप ऑफर स्वीकार करने वाले प्री फाइनल इयर के स्टूडेंट्स को पुन: इंटर्नशिप का अवसर नहीं मिलेगा। पीपीओ के तहत ऑफर स्वीकार करने वाले प्री फाइनल इयर के स्टूडेंट्स पुन: पीपीओ के हायरिंग प्रोसेस में शामिल नहीं हो पाएंगे, हालांकि इंटर्नशिप प्रोसेस में शामिल हो सकेंगे। 

  4. अमर्यादित व्यवहार पर होगी कार्रवाई

    हायरिंग प्रोसेस के दौरान अमर्यादित व्यवहार करने वाला स्टूडेंट प्रक्रिया से बाहर कर दिया जाएगा। निर्धारित समय के 10 मिनट से अधिक देरी से पहुंचने वाले भी प्लेसमेंट प्रोसेस से वंचित हो जाएंगे। कदाचार करने वाले अयोग्य घोषित किए जाएंगे, कार्रवाई भी संभव है। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..