गैंग्स अॉफ वासेपुर के मददगारों को पुलिस का नोटिस, संपत्ति का विवरण ईडी को भेजा जाएगा

Dhanbad News - गैंग्स अॉफ वासेपुर गैंग्स के मामा और भांजा गुटों पर पुलिस पूरी तरह से शिकंजा कसने की तैयारी में है। जेल में बंद...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:45 AM IST
Dhanbad News - police notice to helpers of gangs of wasseypur details of property will be sent to ed
गैंग्स अॉफ वासेपुर गैंग्स के मामा और भांजा गुटों पर पुलिस पूरी तरह से शिकंजा कसने की तैयारी में है। जेल में बंद रहने के बावजूद गैंग्स की कमाई पर फर्क नहीं पड़ रहा है। फिलवक्त फहीम खान घाघीडीह, गोपी खान दुमका और प्रिंस खान पलामू जेल में बंद हैं। पुलिस काे पता चला कि जेल में बंद गैंग्स के मुख्य सरगना फहीम खान और गोपी खान अपने गुर्गाें व मददगाराें के मार्फत विभिन्न स्राेताें से कमाई कर रहा है। बदले में गुर्गे और मददगार गैंग्स के नाम पर अपनी दुकानदारी चला रहे हैं। फहीम खान अाैर भांजा गाेपी खान से जुड़े एेसे लगभग 40 लाेगाें का लिस्ट तैयार कर उन्हें नाेटिस भेजा गया है। पुलिस नाेटिस भेज कर 24 घंटे के अंदर थाना पहुंचने की भी हिदायत दी गई है। मददगाराें काे अपनी संपत्ति का ब्योरा पुलिस काे उपलब्ध कराने काे कहा है। अब तक 19 लोगों से पूछताछ की गई। कुछ एेसे लाेग भी हैं, जिन्हें पुलिस ने नोटिस नहीं भेजा है, परंतु फाेन कर थाने बुला कर पूछताछ की। पुलिस पहली बार वासेपुर गैंग्स के मददगाराें का प्राेफाइल तैयार कर रही है। इसके पहले मददगाराें के नाम सामने अाते थे लेकिन कार्रवाई नहीं हाेती थी। इस बार प्राेफाइल तैयार करने के बाद पुलिस मददगारों की संपत्ति की जांच के लिए ईडी काे भेजेगी। वहीं जिन मददगारों के आर्थिक स्रोतों में आपराधिक कोण मिलेगा, उन पर कानूनी कार्रवाई करेगी। वहीं ईडी संपत्तियों की जब्ती समेत अन्य कार्रवाई करेगा।

40 को भेजा गया नोटिस, 19 से हुई पूछताछ, सभी के बैंक डिटेल भी खंगाल रही पुलिस

पुलिस की ओर से भेजे जा रहे इस तरह के नोटिस।

जमीन कारोबार व ठेका-पट्टे से जुड़े लोगों को मिला पुलिस का नोटिस

जमीन काराेबार अाैर ठेका-पट्टा करने वाले गैंग्स के शाहिद कमर, रशीद भट्ठा, रसिक, साेनू खान, मंसूर नाैवा, शेर खान सहित एेसे कई नाम है, जिनसे पुलिस पूछताछ कर रही है। इन पर गैंग्स से जुड़े हाेने का अाराेप है। माेबाइल काॅल सीडीअार के अलावा कई एेसे साक्ष्य भी पुलिस के पास है, जिससे गैंग्स से जुड़े हाेने की जानकारी हासिल हुई है।

फहीम खान : अभी जमशेदपुर की घाघीडीह जेल में बंद है।

गोपी खान : अभी दुमका सेंट्रल जेल में बंद है।


इसलिए प्राेफाइल बनाने की पड़ी जरूरत

गैंग्स के सरगनाें के ऊपर कई अापराधिक मामले दर्ज हैं। अधिकांश समय वे जेल में रहते हैं। इसके बावजूद उनकी कमाई पर काेई असर नहीं पड़ रहा है। अपने गुर्गाें अाैर मददगाराें के माध्यम से अपनी पहचान व दबदबा कायम कर रखा है। जमीन अाैर ठेके से उन्हें कमाई हाे रही है। पहली बार पुलिस वैसे मददगाराें की लिस्ट तैयार करने के बाद उनपर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।

पैन, अाधार अाैर बैंक एकाउंट साथ लाने का अादेश | गैंग्स के मददगार के रूप में चिह्नित जिन लोगों को पुलिस ने नोटिस भेजा है, उन्हें बैंक एकाउंट, पैन व अाधार कार्ड लाने काे कहा गया है। साथ ही इनके पास कितनी संपत्ति है, इस संबंध में जानकारी देने काे कहा है, ताकि उनके संपत्ति के बारे में पुलिस काे पता चल सके।

Dhanbad News - police notice to helpers of gangs of wasseypur details of property will be sent to ed
Dhanbad News - police notice to helpers of gangs of wasseypur details of property will be sent to ed
X
Dhanbad News - police notice to helpers of gangs of wasseypur details of property will be sent to ed
Dhanbad News - police notice to helpers of gangs of wasseypur details of property will be sent to ed
Dhanbad News - police notice to helpers of gangs of wasseypur details of property will be sent to ed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना