प्रोजेक्ट / धनबाद देगा देश को पहला डिजिटल माइंस, एक कमरे में बैठकर होगी खदान की कंट्रोलिंग



Scientists of CSIR CIMFR Dhanbad developed techniques of digital mines
X
Scientists of CSIR CIMFR Dhanbad developed techniques of digital mines

  • खतरा पहले पता चलेगा, उत्पादन से डिस्पैच तक सब होगा ऑनलाइन 
  • सीएसआईआर-सिंफर, धनबाद के वैज्ञानिकों ने विकसित की डिजिटल माइंस की तकनीक

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 01:26 PM IST

धनबाद. धनबाद देश को पहला डिजिटल माइंस देगा। सीएसआईआर-सिंफर, धनबाद के वैज्ञानिकों ने इसकी तकनीक विकसित कर ली है। इस तकनीक से देश की माइनिंग की दशा और दिशा दोनों बदल जाएगी। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉरमेशन टेक्नोलॉजी ने संस्थान को यह प्रोजेक्ट दिया था। प्रोजेक्ट का नाम 'डेवलपमेंट ऑफ डिजिटल माइन यूजिंग इंटरनेट ऑफ थिंग्स' है। करीब डेढ़ साल की कड़ी और स्मार्ट मेहनत के बाद यहां के वैज्ञानिकों ने माइनिंग इंडस्ट्री को पूरी तरह डिजिटल करने की तकनीक इजाद कर ली। इस तकनीक के माध्यम से पूरे माइंस की कंट्रोलिंग एक कमरे में बैठ कर की जा सकेगी। चाहे प्रोडक्शन हो, पर्यावरण हो या फिर कर्मचारी... सबकी मॉनिटरिंग एक साथ ऑनलाइन होगी। यही नहीं, इस तकनीक की सहायता से माइंस के अंदर का खतरा भी पहले मालूम चलेगा। हादसा होने पर रेस्क्यू टीम एक-एक कर्मचारी तक पहुंच पाएगी। डिजास्टर के वक्त मैनेजर सहित सभी संबंधित विभागों और अधिकारियों को स्वत: मैसेज पहुंचेगा। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना