• Home
  • Jharkhand News
  • Domchanch
  • 10-10 परिवार मिल करते हैं सामूहिक खेती, बंजर जमीन पर उगने लगी सब्जी
--Advertisement--

10-10 परिवार मिल करते हैं सामूहिक खेती, बंजर जमीन पर उगने लगी सब्जी

उग्रवाद प्रभावित ढ़ाब पंचायत के गोरियाडीह गांव ग्रामीणों की दशा श्रीविधि खेती और पशुपालन से बदलने लगी है। अवैध...

Danik Bhaskar | Jan 22, 2018, 07:05 PM IST
उग्रवाद प्रभावित ढ़ाब पंचायत के गोरियाडीह गांव ग्रामीणों की दशा श्रीविधि खेती और पशुपालन से बदलने लगी है। अवैध ढिबरा से जुड़े व्यवसाय को त्याग कर वहां के युवा खेती में दम खम दिखा रहे हैं । खेती में श्रीविधि का प्रयोग कर आर्थिक रूप से सबल होने लगे हैं।

सुदूरवर्ती वन क्षेत्र होने की वजह से यह पंचायत रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क के क्षेत्र में पूर्ण रूप से पिछड़ा है। रोजगार के अभाव में यहां के युवाओं के लिए ढिबरा चुनकर जीवकोपार्जन करना नियति थी। एक वर्ष पूर्व ढ़ाब को सांसद आदर्श ग्राम पंचायत के रूप में चयनित किया गया। इसके बावजूद कोई लाभ नहीं मिलने के कारण स्थानीय कई युवा रोजगार की खोज में महानगरों में पलायन भी कर चुके हैं। इधर आत्मा के सहयोग से खेती के सहारे लोगों की जिंदगी बदलने की पहल रंग दिखाने लगी।

यहां के युवा अब पथरीली व बंजर भूमि के बड़े हिस्से पर टमाटर, मिर्च, आलू, सरसो, सूर्यमुखी, चना आदि की खेती कर आर्थिक रूप से संपन्न बन रहे हैं। कृषि क्षेत्र में मुनाफे को देख 10-10 परिवार मिलकर सामूहिक रूप से खेती कर रहे हैं। सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने के कारण किसान सिंचाई की टपक विधि से लगभग पांच एकड़ भूमि पर हरियाली फैलाए हुए है। वहीं किसान कैलाश साव ने बताया कि ग्रामीण रासायनिक को छोड़ ऑर्गेनिक खाद का उपयोग कर रहे हैं।

इससे किसानों को कम नुकसान उठाना पड़ता है। उन्होंने बताया कि किसान कल्याण मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा भी समय-समय पर मृदा जांच कर उनके अनुरूप कृषि करने और आधुनिक तकनीकी की जानकारी दी जाती है। वहीं दूसरी ओर कई परिवार बकरी, गाय, मुर्गी पालन कर आर्थिक रूप से मजबूत हो रहे हैं। लोगों के जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन हो रहा है।

अपनी फसल को दिखाता कैलाश साव।