--Advertisement--

पूजा में लगभग 500 बकरों की दी गई बलि

डुमरिया के बांकीशोल पंचायत के सुदूर जंगल में प्रकृति का आवरण लिए बसा गांव लखाईडीह में शनिवार को आश्रम पूजा धूमधाम...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:35 AM IST
डुमरिया के बांकीशोल पंचायत के सुदूर जंगल में प्रकृति का आवरण लिए बसा गांव लखाईडीह में शनिवार को आश्रम पूजा धूमधाम से हुई। मुख्यालय से लगभग 25 किलोमीटर दूर इस गांव में आश्रम पूजा कराने के लिए लगभग 5 हजार भक्त जुटे थे। जिसमें झारखंड के अलावा पश्चिम बंगाल व ओड़िसा के अनुयायी काफी संख्या में पहुंचे थे। ऑल इंडिया सारना धर्म चेमैद आसरा आश्रम द्वारा आयोजित इस पूजा को संपन्न कराने में पुजारी के रूप में ग्राम प्रधान सह पूजारी कांहुराम टुडू, मानसिंह हांसदा, माहा मुर्मू, राजो टुडू, बन सिंह बास्के, दुखु बंधु मार्डी, छोटाराय सोरेन, मागांत टुडू, सूना किस्कु समेत कुल 10 पुजारी मौजूद थे। लगभग 500 बकरे की बलि भी चढ़ाई गई। आश्रम पूजा की सबसे बड़ी ‌व अहम विशेषता थी भक्तों का संयम। हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ होने के बावजूद सभी कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करते दिखे। यहां संस्कृति और आस्था का संगम था। यहां 1976 से आश्रम पूजा हो रही है। आश्रम पूजा में एसपी फाउंडेशन जमशेदपुर की ओर से लखाईडीह में मुफ्त मेडिकल कैंप का आयोजन किया गया था। डॉ टीपी बनर्जी, एसके बनर्जी, किशोर चटर्जी, गौतम सिंह ने इसमें सक्रिय भूमिका निभाई। त्रिवेणी कंस्ट्रक्शन की ओर से टैंकर के माध्यम से पेयजल की व्यवस्था की गई थी।