• Hindi News
  • Jharkhand
  • Gandey
  • दहेज देने में असमर्थ लड़की के पिता का दर्द सुनकर लड़के ने मंिदर में रचायी शादी
--Advertisement--

दहेज देने में असमर्थ लड़की के पिता का दर्द सुनकर लड़के ने मंिदर में रचायी शादी

Gandey News - दहेज देने में असमर्थ पिता का दर्द सिर्फ बेटी ने ही नहीं समझा, बल्कि होने वाले दामाद को भी इसकी भनक लग गई। क्योंकि...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:25 AM IST
दहेज देने में असमर्थ लड़की के पिता का दर्द सुनकर लड़के ने मंिदर में रचायी शादी
दहेज देने में असमर्थ पिता का दर्द सिर्फ बेटी ने ही नहीं समझा, बल्कि होने वाले दामाद को भी इसकी भनक लग गई। क्योंकि आर्थिक अभाव के कारण पिता ने सब कुछ तय होने के बावजूद इस वर्ष बेटी की शादी करने से इनकार कर दिया। पिता का कहना था कि दहेज जो तय हुआ है, वे जरूर देंगे, लेकिन इस साल नहीं बल्कि अगले साल। लिहाजा अब अगले साल ही बेटी का शादी करेंगे। पिता का यह फैसला बेटी व होने वाले दामाद को नागवार गुजरा और दोनों ने आदर्श विवाह का फैसला लिया। मामला हीरोडीह थाना क्षेत्र के रेम्बा का है। जहां अपने अडिग फैसले के मुताबिक लड़का-लड़की रेम्बा स्थित दुःखहरण नाथ मंदिर पहुंची। लड़का-लड़की के फैसले के स्वागत में बड़ी संख्या में स्थानीय ग्रामीण भी जुटे और सारे लोगों के बीच दोनों भगवान को साक्षी मानकर परिणय सूत्र में बंध गए, और मंदिर का सात फेरा लेकर साथ जीने-मरने की कसम खाई। विवाह बंधन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद दूल्हे-दुल्हन ने वहां मौजूद तमाम बुजुर्गों से आशीर्वाद लिया। जानकारी के मुताबिक रेम्बा के नंदलाल राम की पुत्री सोनी कुमारी की शादी धनवार थाना क्षेत्र अंतर्गत दशरेडीह निवासी केदार राम के पुत्र अरविंद कुमार राम के साथ तय हुई थी। लेकिन दहेज की राशि उपलब्ध नहीं होने के कारण लड़की के पिता ने इस वर्ष शादी से मना कर दिया था। लेकिन विवाह जैसे शुभ कार्य में रुपया आड़े आते देख युवक अरविंद कुमार राम ने अपने पिता केदार राम एवं परिवार के अन्य परिजनों से सहमति लिए बगैर आदर्श विवाह के साथ बिना दहेज के शादी करने की हामी भर दी। युवक के इस फैसले से पहले लोगों को हैरानी तो हुई, लेकिन बाद में उन्होंने इसे सच साबित कर दिया, जिसकी लोगों को सराहना करते हुए अन्य लोगों को भी सबक लेने की नसीहत दी। मौके पर मुखिया ललिता देवी प्रतिनिधि सह सामाजिक कार्यकर्ता अभिमन्यु राम, पंसस भिखारी राम, अनूप कुमार गुप्ता, समाजसेवी अशोक द्विवेदी, निरंजन राम, पवन राम, सुनील कुमार, वीरेंद्र राम, किशन राम, रोहित राम, शंकर, पूरन महतो नव दंपति के परिजन सहित सैकड़ों लोग थे।

लड़के ने परिजनों को बताए बगैर लिया फैसला, लोगों ने की सराहना

दहेज समेत अन्य कुरीतियों को दूर करने कर लिया निर्णय

सियाटांड़ |
रविवार को जमुआ पूर्वी के गादी खुर्द में आयोजित कुशवाहा संघ के प्रखंड स्तरीय बैठक में समाज से जुड़ी कुरीतियों व समस्याओं पर विस्तृत चर्चा की गई। बैठक में निर्णय लिया गया कि 8 अप्रैल को सियाटांड़ में कुशवाहा संघ का महासम्मेलन आयोजित कर इस क्षेत्र के कुशवाहा बंधुओं को दहेज प्रथा, बाल विवाह, नारी शोषण, खर्चीली शादियां आदि से होने वाले दुष्परिणाम से अवगत करा कर इन सब बुराइयों को मिटाने पर जोर दिया जाएगा। बैठक का संचालन नवडीहा पंसस प्रतिनिधि सुधीर कुमार वर्मा व अध्यक्षता महेंद्र कुमार वर्मा ने की। जिसमें क्षेत्र के दर्जनों महिला-पुरुषों ने भाग लिया।

शादी में दहेज व फिजूलखर्ची पर रोक को लेकर बैठक

बेंगाबाद . छोटकीखरगडीहा मदरसा में रविवार को मुस्लिम समुदाय के प्रमुख सदस्यों की बैठक हुई। बैठक में दहेज प्रथा, शादी विवाह की फिजूलखर्ची पर रोक लगाने, डीजे साउंड का उपयोग नहीं करने सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा की गयी। मौके पर मुस्लिम समुदाय के कई धर्मगुरू उलेमाओं ने भी भाग लिया था। कहा कि शादी विवाह के मौके पर होने वाले फिजूल खर्ची व दहेज प्रथा के कारण समाज पिछड़ रहा है। बेटियों की शादी में लोग कर्ज से डूब रहे हैं। जमीन जायदाद भी बेचना पड़ता है। ऐसे सामाजिक कुरीतियों को सभी के सहयोग से ही दूर किया जा सकता है। शिक्षा के विकास पर लोग ध्यान दें और गलत कार्य से परहेज करें। मौके पर बेंगाबाद, गिरिडीह, गांडेय सहित अन्य प्रखंडों के मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अपनी बातें रखी। इस दौरान युवा कांग्रेस के गांडेय विधानसभा अध्यक्ष हसनैन आलम, मौलाना अनवर अहमद मिस्बाही, मौलाना कमरूदीन मिस्बाही, जलालुदीन बरकाती, शमशुल हक रिजवी, जैनुल अंसारी, अंजुमन अंसारी, मुनीर अंसारी, अनवर अंसारी, खलील अंसारी, सुभानी अंसारी, मुख्तार अंसारी, इम्तियाज कमर, नईमुदीन रिजवी, मो असफाक सहित कई लोग मौजूद थे।

X
दहेज देने में असमर्थ लड़की के पिता का दर्द सुनकर लड़के ने मंिदर में रचायी शादी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..