• Hindi News
  • National
  • Meral News Child Labor Was Being Done In The Hotels Three Children Will Be Freed

होटलों में बाल मजदूरी कराई जा रही थी, मुक्त कराए जाएंगे तीन बच्चे

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मेराल प्रखंड के विभिन्न होटलों में जिला बाल संरक्षण इकाई के सदस्यों ने बाल श्रमिकों से काम लेने वाले होटलों में छापामारी की। इस दौरान एनएच 75 किनारे अवस्थित लातदाग में रितेश जायसवाल के होटल से 11 वर्षीय बच्चे मुंद्रिका उरांव को बरामद किया। बाना महुआ के पास शंकर राम के होटल से मजदूरी करते 12 वर्षीय रूपक देव और 13 वर्षीय प्रभु कुमार को बरामद किया गया। सीडब्ल्यूसी के सदस्यों को मुंद्रिका उरांव ने बताया कि उसे महीने में 2500 मजदूरी मिलती है।

जबकि रूपक देव ने बताया कि उसे प्रतिमाह 2000 तथा प्रभु कुमार ने बताया कि उसे 2500 रुपए महीना मिलता है। तीनों बाल श्रमिकों को होटल से कार्य करते हुए बरामद करने के बाद बाल श्रमिक संरक्षण आयोग टीम के सदस्यों ने उक्त दोनों होटल के संचालक को निर्देश दिया कि सोमवार को तीनों बाल श्रमिक के माता-पिता अभिभावक के साथ सीडब्ल्यूसी कोर्ट में आकर अपना पक्ष रखें। मामले की सुनवाई के बाद तीनों बच्चों को उसके माता-पिता एवं अभिभावक को सौंप दिया जाएगा।

छापामारी अभियान के सुरक्षा व्यवस्था में थाना प्रभारी रामेश्वर उपाध्याय अपने पुलिस बल के साथ मौजूद थे। इस अभियान में सीडब्ल्यूसी के अध्यक्ष उपेंद्र नाथ दुबे, श्रम अधीक्षक गढ़वा अभिषेक व डीसीपीओ अशोक नायक, चाइल्ड लाइन के रोबर्ट कच्छप, डीएलएसए के जहूर अंसारी, पीएलबी सीडब्ल्यूसी के उमाशंकर द्विवेदी छापामारी में शामिल थे।

खबरें और भी हैं...