• Home
  • Jharkhand News
  • Ghato
  • कमर्शियल माइनिंग का फैसला वापस ले सरकार
--Advertisement--

कमर्शियल माइनिंग का फैसला वापस ले सरकार

पुतला दहन के दौरान नारेबाजी करते नेता और कर्मी। भास्कर न्यूज | घाटोटांड़ केंद्र सरकार द्वारा लिए गये कॉमर्शियल...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:15 AM IST
पुतला दहन के दौरान नारेबाजी करते नेता और कर्मी।

भास्कर न्यूज | घाटोटांड़

केंद्र सरकार द्वारा लिए गये कॉमर्शियल माइनिंग का फैसला के विरोध में बुधवार को परेज कोलियरी में डयूटी के दौरान सीसीएलकर्मियों ने प्रधानमंत्री और कोयला मंत्री का पुतला फूंका। सीसीएलकर्मियों ने युनाइटेड कोल वर्कर्स यूनियन के बैनर तले जमकर सरकार विरोधी में नारे लगाये। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कोयला मंत्री पीयूष गोयल के पुतला दहन से पूर्व सभा किया गया। इसमें यूनियन के एरिया सचिव बालेश्वर महतो ने संबोधित करते हुए सीसीएलकर्मियों से कहा कि कोल इंडिया में कॉमर्शियल माइनिंग बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। देश की आर्थिक नियंत्रण को विदेशी कंपनियों के हाथो में देने की साजिश एटक नाकाम करेगी। देश में कोयला उद्योग को लेकर सीसीएलकर्मियों ने एकजुटता के साथ सरकार के कई फैसलों को निरस्त कराने में अहम भूमिका निभाई है। सभी यूनियन मिलकर सरकार के कॉमर्शियल माइनिंग का विरोध किया जाएगा। इसे लेकर कोल इंडिया के पैमाने पर ऐतिहासिक आंदोलन की तैयारी चल रही है।

सरकार सिर्फ विजय माल्या, नीरव मोदी जैसे उद्योगपतियों को भगाने का काम कर रही है। मौके पर असंगठित मजदूर यूनियन, रामगढ़ के नेता सुजीत कुमार मिंटू, युगल महतो, हन्नु महतो, महेश रजवार, बसंत राम, लालेश्वर महतो, संदीप कुमार, माधो भुईंया, शंभु कुमार, मेघलाल महतो, पिंटू सिंह, अकल महतो आदि मौजूद थे।