बादल छाने से ठिठुरन बढ़ी, दिन में भी निकले स्वेटर

Ghatsila News - दिसंबर का महीना शुरू होते ही ठिठुरन बढ़ने लगी है। पिछले दो दिन से शाम ढलते ही ठिठुरन का अहसास हो रहा है। अभी तक लोग...

Dec 04, 2019, 08:50 AM IST
दिसंबर का महीना शुरू होते ही ठिठुरन बढ़ने लगी है। पिछले दो दिन से शाम ढलते ही ठिठुरन का अहसास हो रहा है। अभी तक लोग रात में ही गर्म कपड़े पहने नजर आते थे। लेकिन अब दिन में भी लोग स्वेटर व मफलर बांधे नजर आने लगे हैं। हिमाचल प्रदेश और श्रीनगर में लगातार हो रही बर्फबारी से मध्य भारत में ठंड का असर बढ़ने लगा है। ठिठुरन का सबसे ज्यादा अहसास ग्रामीण क्षेत्रों में हो रहा है।

इसका मुख्य कारण यह है कि ग्रामीण क्षेत्र में चारों तरफ खुला मैदान, जंगल और खेतों में पानी भरा है। ग्रामीणों को कहना है कि कुछ दिनों बाद अलाव जलाकर तापना पड़ सकता है। नवंबर माह के अंत तक सर्दी का अहसास सुबह 8 बजे और शाम को सूर्य अस्त होने के बाद ही होता था।

दिसंबर का महीना प्रारंभ होते ही अब रात में ठिठुरन बढ़ गई है। दिन में सूर्य की किरण से दो-तीन घंटे ही निकल रही है। सुबह 10 बजे तक आसमान में बादल छाए रहते हैं और हवा भी चल रही है। जिस कारण लोगों को रात के साथ-साथ दिन में भी गर्म कपड़े पहनकर निकलते देखा जा रहा है। मंगलवार को अधिकतम तापमान 25.2 और न्यूनतम तापमान 14.8 डिग्री दर्ज किया गया था। सोमवार को अधिकतम तापमान 25.4 और न्यूनतम तापमान 14.4 डिग्री ता। आगामी दिनों में भी आधे दिन बादल छाए रहने की संभावना है। इससे सर्दी धीरे-धीरे बढ़ेगी।

शहर की तुलना में गांवों में ठंड ज्यादा

शहर की तुलना में गांवों में ठंड ज्यादा बढ़ी है। गांव में खुला वातावरण और जंगल के साथ खेतों में पानी रहने के कारण ठंड में बढ़ोतरी हुई है। जबकि शहर में चारों तरफ मकान बने होने के कारण ठंड का अहसास ग्रामीण क्षेत्र की तुलना में कम हो रहा है। किसान दिन के समय तो खेतों पर दिखाई देते हैं, लेकिन सूर्य अस्त होने से पहले ही अपने घरों पर पहुंच जाते हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना