शरद पूर्णिमा आज, होंगे धार्मिक कार्यक्रम

Ghatsila News - हिंदू त्योहारों में शरद पूर्णिमा का अलग महत्व है। इस बार रविवार को शरद पूर्णिमा पड़ रही है। जिसके चलते शहर के अनेक...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 06:50 AM IST
Ghatsila News - sharad purnima today religious programs will be held
हिंदू त्योहारों में शरद पूर्णिमा का अलग महत्व है। इस बार रविवार को शरद पूर्णिमा पड़ रही है। जिसके चलते शहर के अनेक मंदिरों में विविध कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। शरद पूर्णिमा को भगवान श्री कृष्ण ने गोपियों की मनोकामना सिद्धि के लिए महारास की लीला की थी। पंडित शिशिर सुमन मिश्रा ने बताया कि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पूरे साल में केवल इसी दिन चंद्रमा 16 कलाओं के साथ परिपूर्ण होता है। श्रीमद् भागवत कथा के अनुसार इसी दिन श्री कृष्ण ने महारास रचाया था। अाध्यात्म के दृष्टिकोण से यदि हम देखें तो महारास अलौकिक प्रेम का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है। यह भी मान्यता है कि शरद पूर्णिमा के दिन खीर का विशेष महत्व है। इस रात्रि को चंद्रमा की किरणों से अमृत झड़ता है। तभी इस दिन लोगों द्वारा खीर बनाकर रातभर चांदनी में रखने का विधान है। जो शरद पूर्णिमा के अवसर पर चंद्रमा की उज्ज्वल किरणों से आलोकित खीर का रसास्वादन करते हैं उन्हें उत्तम स्वास्थ्य के साथ मानसिक शांति का भी वरदान मिल जाता है।

आध्यात्म के अनुसार चंद्रमा मन का प्रतीक : मिश्रा

पंडित शिशिर सुमन मिश्रा ने बताया कि आध्यात्म के अनुसार चंद्रमा मन का प्रतीक है। मन भी चंद्रमा के समान घटता-बढ़ता है। यानि सकारात्मक और नकारात्मक विचारों से परिपूर्ण होता है। जिस तरह अमावस्या के अंधकार से चंद्रमा निरंतर चलता हुआ पूर्णिमा के पूर्ण प्रकाश की यात्रा पूरी करता है। इसी तरह मानव मन भी नकारात्मक विचारों के अंधेरी से उत्तरोत्तर आगे बढ़ता हुआ प्रकाश को पाता है। यही मानव जीवन का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि शरद पूर्णिमा को माता लक्ष्मी और देवताओं के राजा इंद्र की पूजा करने का भी विधान माना जाता है। इस दिन जो राधा-कृष्ण, माता लक्ष्मी की पूजा कर खीर का वितरण करता है, उसका रोग दूर होता है।

X
Ghatsila News - sharad purnima today religious programs will be held
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना