Hindi News »Jharkhand »Giridih» महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर के खतरे पर मंथन

महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर के खतरे पर मंथन

8 मार्च 2018 को राष्ट्रपति भवन में विश्व महिला दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह में डाॅ. भारती कश्यप (फाउंडर डायरेक्टर,...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:30 AM IST

महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर के खतरे पर मंथन
8 मार्च 2018 को राष्ट्रपति भवन में विश्व महिला दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह में डाॅ. भारती कश्यप (फाउंडर डायरेक्टर, कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल, रांची) को राष्ट्रपति द्वारा वर्ष 2017 का नारी शक्ति पुरस्कार, प्रदान किया गया। गिरिडीह में एक कार्यक्रम के दौरान डॉ. भारती कश्यप ने बताया कि भारज में स्वाईकल कैंसर महिलाओं के लिए बड़ा खतरा है। मौके पर डा भारती कश्यप ने प्रधानमंत्री हुई बातचीत के कुछ अंश को सेमिनार में रखा। जिसमें कहा कि झारखण्ड राज्य में सर्वाइकल कैंसर के पीड़ित महिलाओं के इलाज में अभाव के परिस्थिति से अवगत कराया और जानकारी देते हुए कहा की झारखण्ड में किसी भी सदर अस्पताल में सर्वाइकल कैंसर की प्री कैंसर स्टेज के पहचान एवं इलाज के लिए कॉल्पोस्कोपी एवं क्रायो मशीन की व्यवस्था नहीं है। समय पर इलाज न हो पाने के कारण पूरे देश में सबसे ज्यादा सर्वाइकल कैंसर से महिलाओं की मौत होती है। कहा कि हर वर्ष भारत में सर्वाइकल कैंसर से 67 हजार महिलाओं की असामयिक मौत हो रही है। यह सम्मान झारखण्ड के दूरदराज एवं नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले जनजातीय, आदिवासी, गरीब लोगों एवं बच्चों के लिए निशुल्क नेत्र चिकित्सा एवं ऑपरेशन शिविरों के आयोजन के लिए दिया गया। इसके अतिरिक्त महिलाओं एवं लड़कियों में सर्वाइकल कैंसर एवं एनीमिया की रोकथाम के लिए पूरे झारखण्ड में खास कर जनजातीय क्षेत्रों में उनके द्वारा किए गए अथक प्रयासों के फलस्वरूप उन्हें इस सम्मान से सम्मानित किया गया। विगत 9 मार्च 2018 को प्रधानमंत्री ने नारी शक्ति से सम्मानित किया था।

सरकारी अस्पतालों में कॉल्पोस्कोपी एवं क्रायो मशीन की व्यवस्था नहीं होने से मरीजों को परेशानी

आयुष्मान योजना से गंभीर बीमारी के लिए मिलेंगे 5 लाख

जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत सरकार आयुष्मान योजना का प्रारंभ कर रही है, जिसके तहत दो लाख वेलनेस सेंटर खुलेंगे और प्रत्येक गरीब आदमी को गंभीर बीमारी के लिए पांच लाख तक का इलाज मुफ्त प्रदान किया जायेगा। इस योजना के तहत सभी वेलनेस सेंटर को सेकंड टायर के प्राइवेट हॉस्पिटल से समझौता रहेगा। जिससे छोटे शहरों में भी इस प्रकार की गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए नए अस्पताल खुलेंगे एवं प्रशिक्षित युवा डॉक्टरों का भी छोटे शहरों के अस्पताल में अपना योगदान देंगे।

नेत्र चिकित्सा पर भव्य सेमिनार का आयोजन

झारखण्ड ऑफ्थेलमोलॉजिकल सोसाइटी के नेतृत्व में गिरिडीह ऑफ्थेलमोलॉजिकल सोसाइटी द्वारा शनिवार को नेत्र चिकित्सा पर भव्य सेमिनार का आयोजन गिरिडीह के ऑर्बिट होटल में किया गया। सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक संचालित इस सेमिनार में झारखण्ड के तमाम विख्यात नेत्र चिकित्सकों ने हिस्सा लिया। सेमिनार में राष्ट्रपति के हाथों नारी शक्ति से पुरस्कृत डा भारती कश्यप को सम्मानित किया गया। इसके बाद डा भारती कश्यप ने फेमटो लेजर कैरेक्टर सर्जरी पर अपना शोध पत्र प्रस्तुत करते हुए बताया कि किस प्रकार से फेमटो लेजर कैरेक्टर सर्जरी परंपरागत फेको कैरेक्टर सर्जरी से बेहतर है। डा मलय वर्मा ने बाहर की ओर मूडी पलक के सर्जिकल मैनेजमेंट पर अपना पेपर प्रस्तुत किया। जबकि डा सुजोय सामंता ने फेको विथ फ्लॉपी आईरिस और डा राजीव गुप्ता ने ग्लुलेस एंड सुचारलेस ट्रेजियम सर्जरी पर अपना पेपर प्रस्तुत किया। मौके पर गिरिडीह के चिकित्सक डा दीपक बगेड़िया, डा रमेश कुमार, डा प्रभात कुमार, डा विनय गुप्ता सहित कई लोगों ने हिस्सा लिया।

विख्यात चिकित्सकों ने इन बिन्दुओं पर किया फोकस

डाॅ. लव कोचगव्य ने बच्चों की आखों में होने वाले चोट एवं बच्चों की आंखों के चश्मे का नंबर कैसे निकालें व डाॅ. अन्नेश सरकार ने अ केस ऑफ रिकरेन्ट उप्पर आइलीड ग्रेन्युलोमा के ऊपर अपना पेपर प्रस्तुत किया। जबकि डाॅ. अालोक रंजन ने ए केस ऑफ ऑर्बिटल हिमैनज्योमा ऑर्बिट के ऊपर, डाॅ. स्वपन सामंता ने रेलिवेंस ऑफ दि डिस्कशन अाॅफ कम्यूनिटी ओफ्थाल्मोलोजी इन झारखण्ड के ऊपर, डाॅ. सौम्या राय ने आंखों की लेप्रोसी के ऊपर, डाॅ. पुर्बन गांगुली ने रिसर्च अवेयरनेस फॉर पोस्ट ग्रेजुएट्स ऑफ इंडिया के ऊपर, डाॅ. बीएन गुप्ता ने रीसेंट ट्रेंड इन मेडिकल मैनेजमेंट ऑफ ग्लूकोमा के ऊपर, डाॅ. सोमदत्त प्रसाद ने करंट मैनेजमेंट ऑफ डायबिटिक एवं रेटिनोपैथी ऑफ एसएफ (आईओएल) के ऊपर और डाॅ. बरुन नायक ने ग्लूकोमा पर अपना पेपर प्रस्तुत किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Giridih

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×