जिले के मनरेगा मजदूरों को नहीं मिल रहा रोजगार, पलायन को हैं विवश

Giridih News - मनरेगा के तहत गिरिडीह जिले में वर्ष 2019-20 के तहत सरकार ने 54 लाख मानव दिवस सृजन के साथ 150 करोड़ राशि खर्च करने के लक्ष्य...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 08:35 AM IST
Giridih News - mnrega laborers are not getting employment migrations are constrained
मनरेगा के तहत गिरिडीह जिले में वर्ष 2019-20 के तहत सरकार ने 54 लाख मानव दिवस सृजन के साथ 150 करोड़ राशि खर्च करने के लक्ष्य सरकार के द्वारा दी गई है।

लोकसभा चुनाव को लेकर अचार संहिता लागू हो जाने से जिले में मनरेगा के तहत चलने वाली योजना की श्री गणेश भी नहीं पाई है। जिससे मनरेगा मजदूरों को काफी कठिनाई हो रही है। मनरेगा जॉब कार्डधारियों को 12 माह में 100 दिन का कार्य दिवस उपल्ब्ध कराया जाना आवश्यक है। गत वर्ष वर्षा की अभाव में किसानों का फसल खेतों में नष्ट हो जाने के कारण जिले के किसान व मजदूर वर्ग की स्थित बैहद खराब हो गई है। जिला परियोजना पदाधिकारी ने बताया की गत वितीय वर्ष 2018,19 में 49 लाख मानव दिवस सृजन के साथ एक सौ 35 करोड राशि खर्च की गई थी जो झारखंड प्रदेश में मानव दिवस सृजन करने में गिरिडीह जिला को तीसरा स्थान प्राप्त मिला था। अचार संहिता समाप्त हो जाने के बाद जिले में मनरेगा के तहत युद्ध स्तर पर विकास कार्य प्रारंभ की जाएगी।

क्या कहते हैं परियोजना पदाधिकारी

इस संबंध जिला परियोजना पदाधिकारी बसंत कुमार ने कहा कि मनरेगा के तहत जिले में पुरानी योजना वर्तमान में 27 हजार चल रही है। 15 अप्रेल तक 1 लाख 91 हजार मजदूरों का कार्य दिवस सृजन किए जाने के बाद 1 करोंड 50 लाख मजदूरी भुगतान किया जा चुका है। इस माह में 6 लाख मानव दिवस सृजन किए जाने की लक्ष्य है। उन्होंने कहा की नई योजना की स्वीकृति अचार संहिता के कारण नहीं मिलने से कार्य दिवस सृजन में काफी परेशानी हो रही है। धनवार ,सरिया एंव बगोदर प्रखंड में योजना की स्वीकृति नहीं मिलने के कारण कार्य ठप हो गया है जिसके कारण मजदूरों को काम नहीं मिल पा रही है।

X
Giridih News - mnrega laborers are not getting employment migrations are constrained
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना