गोला

  • Hindi News
  • Jharkhand News
  • Gola
  • वैदिक मंत्रोच्चार से हुई डांडा पूजा, होलिका दहन आज
--Advertisement--

वैदिक मंत्रोच्चार से हुई डांडा पूजा, होलिका दहन आज

श्रीमारवाड़ी सत्यनारायण मंदिर और धर्मशाला संस्था की ओर से होलिका दहन को लेकर डांडा पूजा की गई। बुधवार की शाम चार...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 02:20 AM IST
वैदिक मंत्रोच्चार से हुई डांडा पूजा, होलिका दहन आज
श्रीमारवाड़ी सत्यनारायण मंदिर और धर्मशाला संस्था की ओर से होलिका दहन को लेकर डांडा पूजा की गई। बुधवार की शाम चार बजे लोहार टोला के होलिका दहन स्थल पर पूजा की। यहां, वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मंदिर पुजारी मदन मोहन शर्मा व विजय मिश्रा ने पूजा कराई।

पूजन के बाद होलिका के रुप आम की डाल को स्थापित किया गया। पूजन और आरती के बाद लोगों के बीच प्रसाद बांटी गई। यहां, सभी ने एक दूसरे को गुलाल लगाया। गुरुवार की रात आठ बजे होलिका दहन किया जाएगा। पूजा में सीताराम गोयल, नंदलाल अग्रवाल, महावीर प्रसाद बौंदिया, महावीर खंडेलवाल, मनोज मित्तल, संजीव बरेलिया, हनुमान गोयल, अरुण मित्तल, महावीर गोयल, बिनोद कुमार पंकज शामिल थे। बताया गया कि संस्था की ओर से शुक्रवार की शाम पांच बजे से मारवाड़ी धर्मशाला में होली मिलन समारोह का आयोजन किया गया है।

पूजा में शामिल लोग।

होलिका दहन स्थल की चार परिक्रमा करें, विपत्ति होगी दूर

होलिका दहन पूजन को लेकर कई विधि है। ब्राह्मण बताते है कि गोबर का 11 गोला बनाकर उस पर सिंदूर का तिलक लगाकर होलिका दहन में डालने से दरिद्रता नाश होती है, और धन आता है। वहीं, पीला सरसो, लाल फूल, सफेद चावल मिलाकर होलिका दहन में डालने से लोगों के कष्ट, ऋण से मुक्ति और रोग दूर होते है। होलिका दहन स्थल पर चार परिक्रमा करने से लोगाें की विपत्ति दूर होती है। लोगों को ओम बासुदेवाय नम: का जाप करना चाहिए।

X
वैदिक मंत्रोच्चार से हुई डांडा पूजा, होलिका दहन आज
Click to listen..