Hindi News »Jharkhand News »Gua» पहले तो मंदिर में माइक से बज रहे भजन को बंद कराया बाद में बैकफुट पर आई पुलिस

पहले तो मंदिर में माइक से बज रहे भजन को बंद कराया बाद में बैकफुट पर आई पुलिस

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:25 PM IST

सरायकेला। सरायकेला पुराना बस स्टैंड चौक स्थित प्राचीन बजरंग मंदिर में लाउडस्पीकर से भजन बजाए जाने पर की गई...
सरायकेला। सरायकेला पुराना बस स्टैंड चौक स्थित प्राचीन बजरंग मंदिर में लाउडस्पीकर से भजन बजाए जाने पर की गई रोक-टोक के खिलाफ स्थानीय लोगों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। मंदिर के समक्ष शांति समिति के सदस्य मनोज कुमार चौधरी और प्रेम अग्रवाल की अगुवाई में किए गए उक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में सोमवार को हुई घटना के बाद स्थगित किए गए भजन बजाने पर चर्चा करते हुए उन्होंने आक्रोश जताया। मौके पर सरायकेला थाना प्रभारी रणविजय सिंह और सीनी ओपी प्रभारी विपिन सिंह भी पहुंच गए। उन्होंने पूरे मामले को सुना और कहा कि सरायकेला थाना द्वारा ऐसा कोई निर्देश जारी नहीं किया गया है। इसलिए घटना की पूरी निष्पक्षता के साथ जांच करते हुए आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। मंदिर में निर्धारित समय के साथ आज से और अभी से भजन बजाया जाए। प्रेस कांफ्रेंस में सुदीप पटनायक, टुलू दास, मंदिर के पुजारी सत्यो आचार्य, घटना के भुक्तभोगी पिंटू राणा, सनत साहू, मनोज अग्रवाल, विक्रम मोदक, रंजीत नायक, प्रदीप सतपति, मुन्ना सतपति, बुलु सतपति, देवराज दास, प्रदीप साहू, सावन साहू, सौरभ अग्रवाल और ललित चौधरी ने भी विचार रखें।

प्राचीन बजरंगबली मंदिर में स्थानीय समिति द्वारा उपलब्ध कराए गए लाउडस्पीकर के माध्यम से प्रतिदिन प्रातः और शाम एक से डेढ़ घंटा के लिए सामान्य आवाज में भजन बजता है। इसकी जिम्मेदारी मंदिर के समीप स्थित एक दुकान के मालिक पिंटू राणा को दी गई है। सोमवार की शाम करीब 7:30 बजे पीसीआर वैन की ड्यूटी में तैनात अधिकारी पहले धीमी आवाज में भजन बजाए जाने का निर्देश दिया। उसके कुछ देर बाद भजन बंद कर देने को कहा। ऐसा नहीं करने पर मामला दर्ज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि तेज आवाज में भजन बजाने की शिकायत मिली है। इसे देखते हुए मंगलवार को मंदिर में भजन नहीं बजाया गया।

क्या है मामला

क्या है नियम- सामान्य परिस्थिति में डीजे म्यूजिक को प्रतिबंधित रखा गया है, जबकि लाउडस्पीकर के माध्यम से रात के 10:00 बजे से लेकर सुबह के 6:00 बजे तक गीत संगीत या भजन प्रतिबंधित रखा गया है।

स्थानीय लोगों ने रखी मांग

1. किन-किन लोगों की शिकायत पर उक्त अधिकारी द्वारा लाउडस्पीकर को बंद करने का आदेश दिया गया? इसे सार्वजनिक किया जाए।

2. निष्पक्षता के साथ जांच करते हुए ऐसे अधिकारी के खिलाफ विधिसम्मत कार्रवाई की जाए। क्योंकि उक्त अधिकारी द्वारा सद्भावना को बिगाड़ने का प्रयास किया गया है। ऐसे ही छोटे-छोटे मामलों को गंभीरता से नहीं लेने के कारण असामाजिक तत्व इसका लाभ उठा कर बड़ा रूप दे देते हैं।

3. पीसीआर वैन की गतिविधियों को नियंत्रित किया जाए। ताकि बिना किसी विभागीय आदेश के उनके द्वारा आमजन का भयादोहन नहीं हो सके।

पुलिस अधीक्षक ने लिया संज्ञान

मामले की सूचना मिलने के साथ ही पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा ने त्वरित सरायकेला थाना प्रभारी से संपर्क कर मामले की गंभीरता से जांच करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा है कि बिना किसी आदेश के इस प्रकार से की गई कार्रवाई ठीक नहीं है। जांच के क्रम में दोषी पाए गए अधिकारी के खिलाफ विधिसम्मत कार्रवाई करने के लिए उन्होंने आश्वस्त दिया है।

पीसीआर वैन पर तैनात अधिकारी द्वारा किया गया असंवैधानिक और बेबुनियाद कार्य धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने वाला है। इससे शांति व्यवस्था भंग होने की संभावना उत्पन्न हो सकती है। स्थानीय श्रद्धालुओं के साथ मिलकर मामले को जिला प्रशासन के संज्ञान में लाया जा रहा है।-मनोज कुमार चौधरी, सदस्य शांति समिति।

सरायकेला थाना द्वारा ऐसा कोई भी निर्देश जारी नहीं किया गया है। मामले की छानबीन की जा रही है। जल्द ही आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।- रणविजय सिंह, थाना प्रभारी सरायकेला।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gua News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: पहले तो मंदिर में माइक से बज रहे भजन को बंद कराया बाद में बैकफुट पर आई पुलिस
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Gua

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×