• Home
  • Jharkhand News
  • Gumla
  • छह दिन से लापता खाट व्यवसायी का शव जंगल से बरामद, एक अपराधी गिरफ्तार
--Advertisement--

छह दिन से लापता खाट व्यवसायी का शव जंगल से बरामद, एक अपराधी गिरफ्तार

भास्कर न्यूज| बिशुनपुर/ गुमला लोहरदगा से खाट बेचने आए रंजय चौरसिया का सड़ा-गला शव बिशुनपुर पुलिस ने छह दिन बाद...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:30 AM IST
भास्कर न्यूज| बिशुनपुर/ गुमला

लोहरदगा से खाट बेचने आए रंजय चौरसिया का सड़ा-गला शव बिशुनपुर पुलिस ने छह दिन बाद बुधवार को बिशनुपर के रोपी कोना जंगल के खाई से बरामद किया है। मजिस्ट्रेट के रूप में तैनात बीडीओ उदय सिन्हा की मौजूदगी में शव को निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। रंजय की सिर में गोली मारकर हत्या की गई है। इस मामले में पुलिस ने झांगुर गुट के सदस्य अनिल उरांव को गिरफ्तार किया है। उसने हत्याकांड में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली है। एसडीपीओ भूपेंद्र राउत ने कहा कि प्रथम दृष्टया लूटपाट की नियत से घटना को अंजाम दिया गया है। पहचान के डर से अपराधियों ने गोली मारकर शव को खाई में फेंक दिया था। इस हत्याकांड में झांगुर गुट के अनिल को पकड़ा गया है। पूर्व में भी कई हत्याओं में उसकी संलिप्तता रही है। जबकि घटना में शामिल उसके अन्य साथी फरार हैं। पुलिस अनिल से पूछताछ कर रही है। इसके बाद ही पूरी जानकारी दी जा सकती है। उन्होंने कहा की फरार अपराधियों को शीघ्र पकड़ लिया जाएगा।

लापता होने की रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पुलिस कर रही थी छापेमारी

थाना परिसर में विलाप करते रंजय के साथी।

भूखे मर जाएंगे, लेकिन बिशुनपुर नहीं आएंगे

बिशुनपुर में खाट का व्यवसाय करने वाले रंजय की हत्या से छोटे-छोटे व्यापारियों में आक्रोश है। रंजय के लापता होने के बाद उसके अन्य साथी भी पलामू से बिशुनपुर पहुंच गए थे। सभी मिलकर रात-दिन अपने मित्र की सकुशल बरामदगी के लिए प्रयासरत थे। इधर जब रंजय की लाश मिली, तो उसके साथी फूट फूट कर रोने लगे। साथियों ने कहा कि भले ही हम भूखे मर जाएंगे। लेकिन अब यहां कभी नहीं आएंगे। छोटे व्यवसायियों की भी हत्या की जा रही है। यह निंदनीय है।

23 फरवरी से लापता था रंजय

बताया जाता है कि रंजय अपने साथी दीनानाथ प्रसाद, दिलीप प्रसाद, मनोज प्रसाद सहित अन्य के साथ लोहरदगा से खाट बेचने के लिए बिशुनपुर आया था। सभी बिशुनपुर में एक मकान में रुके थे। 23 फरवरी को देर शाम आठ बजे तक रंजय खाट बेचकर वापस नहीं लौटा, तो साथी घबरा गए। इसके बाद रात में ही बिशुनपुर थाना में उसकी गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया था। जिसके बाद एसडीपीओ के नेतृत्व में टीम बनाकर बिशुनपुर पुलिस ने छापेमारी शुरू की। इस दौरान सोमवार को रंजय की बाइक ओरिया गांव के समीप झाड़ी से बरामद की गई थी। बुधवार को शव बरामद किया गया।