--Advertisement--

बलम पिचकारी, जो तूने मुझे...पर झूमे लोग

बलम पिचकारी जो तूने मारी, 60 बरस में इश्क लड़ाए, बड़ा रंगीला सांवरिया, होली खेले रघुवीरा, होली है... आदि फगुवा गीतों के...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:35 AM IST
बलम पिचकारी जो तूने मारी, 60 बरस में इश्क लड़ाए, बड़ा रंगीला सांवरिया, होली खेले रघुवीरा, होली है... आदि फगुवा गीतों के बीच शुक्रवार को जिले में होली धूमधाम से मनी। सभी धर्म, जाति व उम्र के लोगों ने एक साथ मिलकर होली मनाई। पर्व को लेकर बच्चों में उत्साह चरम पर रहा। महिलाएं व युवतियां भी रंगों की बौछार से न तो बच पाईं और न ही खुद को दूर रख पाई। जबकि यूथ कई दिन पहले से होली की तैयारी में जुट गए थे। होली के दिन वे अहले सुबह से ही टोलियां बनाकर सड़कों पर निकल गए। लोगों ने अपने दोस्तों, रिश्तेदारों व परिचित को रंग लगाकर व गले मिलकर होली की बधाई दी। बच्चों ने पिचकारी से सड़कों पर गुजरने वाले राहगीरों पर रंग डाला। दोपहर तक रंगों से होली खेलने के बाद शाम के पांच बजे से अबीर से होली मनाने का दौर शुरू हुआ, जो देर रात तक जारी रहा। लोग स्नान करने के बाद नए कपड़े पहन कर अबीर लगाने के लिए घरों से निकले।

परंपरा व संस्कृति के अनुसार अपने से बड़ों के पैरों व छोटे के गालों में अबीर लगाकर होली की खुशियां मनाई। प्रशासनिक अधिकारियों ने भी होली का आनंद लिया। होली से एक दिन पहले गुरुवार को कई स्थानों पर होलिका दहन किया गया। जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे और पूजा-अर्चना की। वहीं होली के दिन कई जगहों में मटका फोड़ कार्यक्रम हुआ। यहां लोगों ने खूब मस्ती की और मटका फोड़ा। बताया जाता है कि मांस व शराब का 50 लाख से अधिक का कारोबार हुआ है।