Hindi News »Jharkhand »Gumla» आदिवासियों का अस्तित्व खत्म करने के लिए अपना रहे हथकंडे

आदिवासियों का अस्तित्व खत्म करने के लिए अपना रहे हथकंडे

एसीएस व राष्ट्रीय सरना युवा संघ का बंद से पूर्व मशाल जुलूस आज भास्कर न्यूज| गुमला आदिवासी हरिजन अत्याचार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:40 AM IST

एसीएस व राष्ट्रीय सरना युवा संघ का बंद से पूर्व मशाल जुलूस आज

भास्कर न्यूज| गुमला

आदिवासी हरिजन अत्याचार अधिनियम 1989 को खत्म करने के विरोध में आदिवासी छात्र संघ व राष्ट्रीय सरना युवा संघ के बैनर तले दो अप्रैल को आहूत बंद से पूर्व रविवार को शाम 6 बजे मशाल जुलूस निकाला जाएगा। मशाल जुलूस शहर के विभिन्न मार्गों का परिभ्रमण कर टावर चौक के समीप पहुंचकर सभा में तब्दील होगी। एसीएस के जिला अध्यक्ष सह राष्ट्रीय सरना युवा संघ के प्रवक्ता अशोक कुमार भगत ने कहा कि आदिवासियों व हरिजन समुदाय के अस्तित्व को समाप्त करने के लिए तरह तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। दो अप्रैल का बंद ऐतिहासिक होगा। बंद को सफल बनाने के लिए रणनीति तैयार कर ली गई है। बंद को सफल बनाने के लिए युवाओं की छोटी-छोटी टोली बनाई गई हैं। उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने 20 मार्च को अपने एक फैसले में कहा था कि एससी-एसटी एक्ट का दुरुपयोग हो रहा है। इसलिए एससी-एसटी एक्ट के तहत तत्काल गिरफ्तारी पर कोर्ट ने रोक लगा दी थी। इसी फैसले के विरोध में आदिवासी व संगठनों द्वारा भारत बंद बुलाया गया है। जिसे कई राजनीतिक दलों ने भी समर्थन दिया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gumla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×