• Hindi News
  • Jharkhand News
  • Gumla
  • दो गांवों के 15000 को लोगों को मिलेगा सप्लाई का पानी
--Advertisement--

दो गांवों के 15000 को लोगों को मिलेगा सप्लाई का पानी

घाघरा प्रखंड के चपका एवं बेलगड़ा गांव के ग्रामीणों को अब पेयजल के लिए कुआं या चापाकल के भरोसे नहीं रहना पड़ेगा।...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:45 AM IST
घाघरा प्रखंड के चपका एवं बेलगड़ा गांव के ग्रामीणों को अब पेयजल के लिए कुआं या चापाकल के भरोसे नहीं रहना पड़ेगा। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ग्रामीण पेयजलापूर्ति योजना के तहत गांव वालों को पाइप के माध्यम से पीने का पानी मुहैया कराएगा। इसके लिए विभाग ने डेढ़ करोड़ रुपए की योजना का डीपीआर तैयार कर लिया है। सरकार से उसकी तकनीकी स्वीकृति भी मिल गई है। शीघ्र ही प्रशासनिक स्वीकृति मिलने के बाद कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा।

इस जलापूर्ति योजना के चालू हो जाने से बेलगांव एवं चपका गांव के आसपास के करीब 15000 की आबादी को पेयजल की सुविधा मुहैया करा दी जाएगी। इसको लेकर क्षेत्र के सर्वेक्षण का कार्य पूरा कर लिया गया है। इसके लिए नजदीक के मसरिया डैम से पानी की आपूर्ति की जाएगी। वहां पर विभाग की ओर से इंटक वेल बनाए जाने का प्रस्ताव है। मसरिया डैम में जल का संचयन बरसात के पानी से होता है। लेकिन बरसात का पानी सालोभर डैम में रहता है। इसलिए डैम से पानी की नियमित आपूर्ति ग्रामीणों को की जा सकेगी।

गौरतलब है कि मसरिया डैम से फिलहाल कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में 300 से अधिक छात्राओं के लिए पानी की आपूर्ति की जा रही है। मसरिया डैम में प्रर्याप्त रिजर्व वाटर का आकलन करने के बाद विभाग ने इसका डीपीआर तैयार कर तकनीकी स्वीकृति प्राप्त की है। क्षेत्र के लोग पूर्व से ही पाइप से जलापूर्ति करने की मांग कर रहे थे।

इंटक वेल निर्माण के लिए एनओसी लेने की प्रक्रिया शुरू

उपायुक्त श्रवण साय ने बताया कि उक्त योजना से क्षेत्र की आबादी को काफी राहत मिलेगी। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के अधीक्षण अभियंता पीएन सिंह ने बताया कि डैम से जलापूर्ति होने के कारण क्षेत्र में पानी के लिए ग्रामीणों की चापाकल एवं कुएं पर निर्भरता समाप्त हो जाएगी। इंटक वेल के निर्माण के लिए विभाग के स्तर पर जल संसाधन विभाग से एनओसी की प्रक्रिया भी प्रारंभ कर दी गई है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..