--Advertisement--

अब चुनाव परिणाम का आकलन कर रहे लोग

नगर निकाय चुनाव संपन्न होने के साथ ही अब वोटरों का चुनावी विश्लेषण शुरू हो गया। मतदान से पूर्व तक अपनी राय जाहीर...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:20 AM IST
नगर निकाय चुनाव संपन्न होने के साथ ही अब वोटरों का चुनावी विश्लेषण शुरू हो गया। मतदान से पूर्व तक अपनी राय जाहीर नहीं करनेवाले वोटर अब खुलकर प्रत्याशियों के ईवीएम में बंद किस्मत की गिनती के पूर्व ही परिणाम का आकलन कर रहे हैं। प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम के साथ वज्रगृह में बंद होने के साथ ही क्षेत्र से केंद्रीय मंत्री और विपक्ष के नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू का दावा भी ईवीएम में ही कैद हो गया है। केंद्रीय राज्यमंत्री सुदर्शन भगत कार्यकर्ताओं को एकजुट करने के लिए दो अलग-अलग दिन कैंप किए। रोड शो और कैडरों के साथ मैराथन भी किए। उसी प्रकार कांग्रेस से राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू और प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार ने भी गुमला की सीट को विशेष तवज्जो दिया है। एक तरफ केंद्रीय राज्यमंत्री भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी के पक्ष में पार्टी के बागी कैडर को मनाने में विफल रहे। वहीं दूसरी ओर गुमला में जिला कमेटी से इतर सक्रियता दिखाने वाले पूर्व सांसद रामेश्वर उरांव भी कांग्रेस के पक्ष में प्रचार कर दलीय गुटबाजी को पाटने का संकेत दिया है। किंतु वे भी इसे पाटने में विफल दिखे। क्योंकि कांग्रेस के ही अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के अधिकृत प्रत्याशी के प्रचार वाहन अलग अलग दिखा।