गुमला के 33 पेट्रोल पंपों में 32 में नहीं है प्रदूषण जांच की व्यवस्था

Gumla News - नए मोटर व्हीकल के प्रभावी होने के बाद शहर में स्थापित दो प्रदूषण जांंच केंद्रों में प्रमाण पत्र बनवाने के लिए...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 07:02 AM IST
Gumla News - out of 33 petrol pumps of gumla 32 do not have pollution check system
नए मोटर व्हीकल के प्रभावी होने के बाद शहर में स्थापित दो प्रदूषण जांंच केंद्रों में प्रमाण पत्र बनवाने के लिए प्रतिदिन लोगों की भीड़ उमड़ रही है। चेकिंग में वाहन के पकड़ाने का भय कहे या लोगों में जागरूकता अचानक प्रदूषण जांच कराने की संख्या कई गुणा अधिक बढ़ गई है। केंद्रों के संचालकों के अनुसार एक सितंबर से पहले हर रोज मात्र 4 से 5 लोग ही प्रदूषण जांच कराने पहुंचते थे। वहीं अब रोजाना 150 से 200 लोग केंद्र से प्रदूषण सर्टिफिकेट बनवा रहे हैं। जबकि यहां पहुंचने वालों की संख्या तकरीबन 300 के करीब है। माही प्रदूषण जांच केंद्र के संचालक प्रभाकर कुशवाहा ने बताया कि प्रदूषण सर्टिफिकेट बनवाने के लिए गाड़ी का हाइड्रो कार्बन 4500 से कम और कार्बन मोनो ऑक्साइड 3.5 से कम जरूरी है। इधर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद परिवहन सचिव ने एक वर्ष पूर्व ही जिला परिवहन कार्यालय को पत्र प्रेषित कर पेट्रोल पंपों पर वाहन प्रदूषण जांच केंद्र स्थापित कराने की हिदायत दी थी। लेकिन एक साल बीत जाने के बाद भी जिले के सभी पेट्रोल पंपों पर प्रदूषण जांच केंद्र अब तक नहीं खुल सका है। परिवहन विभाग द्वारा शहर में वाहनों के बढ़ रहे वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने को लेकर यह निर्णय लिया गया था।

परिवहन विभाग द्वारा पहले चरण में जिलों के शहरी इलाकों में स्थित पेट्रोल पंपों पर प्रदूषण केंद्र खोले जाने की योजना थी। लेकिन अब तक मात्र सिसई रोड के पंप द्वारा प्रदूषण जांच केंद्र खोला जा सका है। इसके अलावा पालकोट रोड में एक प्राइवेट माही प्रदूषण जांच केंद्र है। गौरतलब है कि जिले में पेट्रोल पंपों की संख्या 33 है। इसमें से 32 में प्रदूषण जांच की व्यवस्था नहीं है। हालांकि इसके लिए पंप संचालकों का तर्क है कि प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए कई प्रकार की प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ेगा। केंद्र के लिए अलग से कमरा और मशीनरीज की व्यवस्था करनी है। इसमें 4 से 5 लाख रुपए खर्च आएगा। इसलिए संचालक केंद्र खोलने के लिए गंभीर नहीं है। डीटीओ ने बताया कि पंप संचालक दस्तावेज कार्यालय या विभाग को भेज सकते है। इसके बाद विभाग द्वारा दस्तावेज को सत्यापन के लिए यहां भेजा जाएगा। फिर जांच कर आगे की प्रकिया पूरी की जाएगी।

जांच केंद्र में प्रदूषण सर्टिफकेट बनवाने के लिए लगी भीड़।

दिसंबर तक केंद्र नहीं खुलने पर ट्रेड लाइसेंस रद्द : डीटीओ

डीटीओ जमाले राजा ने कहा कि सभी पेट्रोल पंपों में प्रदूषण जांच की व्यवस्था की जानी है। इसके लिए पत्राचार किया जा चुका है। जिसमें से 8 से 10 संचालकों ने आवेदन जमा किया है। इस माह के अंत तक 3 पंपों में प्रदूषण जांच केंद्र खुल जाएंगे। इसके अतिरिक्त शेष पंपों को दिसंबर तक का समय दिया गया है। इस अवधि तक यदि वे प्रदूषण जांच केंद्र नहीं खोलते हैं, तो उनका ट्रेड लाइसेंस रद्द किया जाएगा। उन्होंने कहा कि लोग कार्रवाई से पहले स्वयं प्रदूषण सर्टिफिकेट बनवा रहे हैं आैर हेलमेट का प्रयोग कर रहे है, तो यह सकारात्मक पहल है।

प्रदूषण जांच कराने का शुल्क

वाहन शुल्क

बाइक या स्कूटी 50 रुपए

तीन पहिया वाहन 80 रुपए

चार पहिया वाहन 100 रुपए

मध्यम वाहन 200 रुपए

भारी वाहन 300 रुपए

X
Gumla News - out of 33 petrol pumps of gumla 32 do not have pollution check system
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना