पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बालिकाओं को निशुल्क कराटे सिखातीं हंै सूर्यावती

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बालिकाएं कोमल जरूर होती हैं पर कमजोर नहीं। इसी उद्देश्य के साथ जिले की बीआईडी निवासी 41 वर्षीय सूर्यावती देवी बालिकाओं को आत्मरक्षा के लिए कराटे के गुर सिखा रही हैं। वे पिछले तीन वर्षों से सरकारी विद्यालयों के बालिकाओं को यह गुर सिखा रही हैं। लगभग आठ से दस हजार बालिकाएं अबतक कराटे के क्षेत्र में सूर्यावती से शिक्षा प्राप्त कर चुकी हैं। वर्तमान में भी लगभग 2 हजार बच्चों को कराटे प्रशिक्षण देने का कार्य कर रहीं हैं। यह कार्य सूर्यावती पैसा कमाने के लिए नहीं बल्कि बालिकाओं को आत्मरक्षा के लिए प्रेरित करने को लेकर नि:शुल्क कर रही है।

वे वर्तमान में जिले के 10 से 12 सरकारी मध्य व हाई स्कूलों में यह प्रशिक्षण दे रहीं है। प्रत्येक विद्यालय से लगभग 200 बच्चे उनसे यह विद्या प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने सिठियो हाई स्कूल, ईरगांव प्रोजेक्ट हाई स्कूल, लोहरदगा कस्तूरबा हाई स्कूल, अरकोसा हाई स्कूल, बक्सी नगड़ा हाई स्कूल, किस्को के एसएस हाई स्कूल, सलगी हाई स्कूल, कुजरा हाई स्कूल, कुज्जी हाई स्कूल सहित अन्य स्कूलों की बालिकाओं को आज आत्मरक्षा की गुर सिखा चुकी है। बस इतना ही नहीं सूर्यावती बालिकाओं की दो कक्षाएं लेती हैं जिसमें पहली कक्षा वे योग का देती हैं और दूसरी कक्षा कराटे की। स्कूलों के अलावा कृषि बाजार प्रांगण में संचालित लोहरदगा कराटे क्लब के छात्रों को भी वे कराटे प्रशिक्षण देतीं है। उन्होंने बताया कि कराटे का बेसिक ट्रेनिंग 20 वर्ष पूर्व अपने विद्यालयी सत्र में कक्षा 9 में अध्ययन के दौरान लिया था। तब वे कराटे के क्षेत्र में उच्च स्तरीय बेल्ट को प्राप्त नहीं कर सकी थी। विवाह के बाद उन्होंने पति सेंसाई ब्लैक बेल्टर यूएसए श्रवण साहू के मार्गदर्शन पर यूएसए ब्लैक बेल्ट द्वितीय डॉन का ग्रेड प्राप्त किया। जिसके बाद वे सेंसाई यूएसए के रूप में बालिकाओं को कराटे के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने का कार्य कर रही है। सूर्यावती ने बताया कि उनका मायका रांची के कांके बोड़या में हैं। लोहरदगा के बीआईडी में उनका विवाह 23 वर्ष पूर्व हुआ था। जिसके बाद वे कुछ वर्ष तक पारिवारिक देखभाल में जुटी रही। इसी बीच वे सिलाई कटाई का भी कार्य करती थी।

जिसके बाद वे पिछले चार वर्षों से अपने पति से प्रेरित होकर बालिकाओं के लिए यह कदम उठाया। सूर्या फिलहाल वूमेन सेल्फ डिफेंस सेंटर बीआईडी मुहल्ला लोहरदगा में संचालित करतीं हैं। जिसमें बालिकाओं एवं महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाता है। उन्होंने कहा कि वे आगे भी बालिकाओं को योग व कराटे का गुर सिखाती रहेंगी।

बालिकाओं को कराटे का गुर सिखाती सेंसाई सूर्यावती देवी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें