Hindi News »Jharkhand »Haidarnagar» हैदरनगर के छह पंचायतों में 250 शौचालय बनाने के लिए मिला आवंटन

हैदरनगर के छह पंचायतों में 250 शौचालय बनाने के लिए मिला आवंटन

प्रखंडसभागार में शुक्रवार को ग्राम जल स्वच्छता समिति के अध्यक्ष, मुखिया, जलसहिया एसएचजी की महिलाओं की बैठक में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 06, 2018, 02:50 AM IST

प्रखंडसभागार में शुक्रवार को ग्राम जल स्वच्छता समिति के अध्यक्ष, मुखिया, जलसहिया एसएचजी की महिलाओं की बैठक में शौचालय निर्माण में प्रगति लाने को लेकर विचार विमर्श किया गया। इसमें एसबीएम के प्रखंड समन्वयक जयकृष्ण कुमार एसएम प्रीति कुमारी ने बिलासपुर, बभंडी, खरगाड़ा, बरडंडा, इमामनगर बरेवा परता पंचायतों के 22 राजस्व ग्रामों में 250 यूनिट शौचालय निर्माण के लिए कुल 3018750 रुपए के अग्रिम आवंटन के आलोक में एक सप्ताह में निर्माण कार्य पूरा कराकर उपयोगिता प्रमाण पत्र समर्पित करने का निर्देश मुखिया जलसहिया को दिए।

इसके साथ ही उन्होंने एसएचजी की महिलाओं जलसहिया को पहले स्वयं की राशि से शौचालय निर्माण कराने की बात कही। जिससे कि अन्य लोगों को इसके लिए प्रेरित करने में सफलता मिल सके। बैठक में मॉडल ओडीएफ गांव के लिए चयनित पटखौलिया के स्वयं सेवक गोपाल प्रजापति ने इस गांव में शौचालय निर्माण के प्रति लोगों के जज्बे का प्रमाण पेश करते हुए 12000 की राशि में ही मान्य प्रारूप के अनुसार बढ़िया उपयोगी शौचालय निर्माण कराने की जानकारी दी। बाद में बीडीओ शैलेंद्र कुमार रजक ने प्रखंड समन्वयक को शौचालय निर्माण में तेजी लाने के लिए निर्धारित यूनिट से अधिक शौचालय निर्माण कराने को लेकर मुखिया जलसहिया को प्रेरित करने की हिदायत दी। साथ ही इसे लेकर मुखिया की बैठक शनिवार को आयोजित करने इसके लिए उन्हें सूचित करने को कहा। बैठक में मुखिया रंजू देवी, कईली देवी, नागेंद्र मेहता, शंकर राम, पूर्व मुखिया सुदर्शन राम, समाजसेवी प्रवेश राम, सरस्वती एसएचजी खरगाड़ा की अध्यक्ष शोभा देवी, सचिव निर्मला देवी, जलसहिया रीता देवी समेत अन्य कई जलसहिया शामिल थीं।

बैठक में शामिल एसएचजी वीडब्ल्यूएससी के अध्यक्ष जलसहिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Haidarnagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×