हैदरनगर

  • Hindi News
  • Jharkhand News
  • Haidarnagar
  • 57 घरों में बने हैं शौचालय पर लोग अब भी जाते हैं खुले में शौच
--Advertisement--

57 घरों में बने हैं शौचालय पर लोग अब भी जाते हैं खुले में शौच

हैदरनगर पश्चिमी पंचायत के कनौदा गांव में राज्य स्तरीय अंकेक्षण दल ने इस पंचायत के घोषित ओडीएफ कार्य का जाएजा...

Dainik Bhaskar

Jun 08, 2018, 02:30 AM IST
57 घरों में बने हैं शौचालय पर लोग अब भी जाते हैं खुले में शौच
हैदरनगर पश्चिमी पंचायत के कनौदा गांव में राज्य स्तरीय अंकेक्षण दल ने इस पंचायत के घोषित ओडीएफ कार्य का जाएजा लिया। इस दल में शामिल बीआरपी मंतोष कुमार मेहता, भीआरपी ममता देवी, गीता देवी व सुमन कुजूर ने उपस्थित ग्रामीणों को जानकारी देते हुए कहा कि लक्ष्य के अनुरूप इस पंचायत में कुल 557 शौचालय का निर्माण कराकर ओडीएफ घोषित किया गया है। दल ने इस पंचायत में 222 घरों तक जाकर शौचालय निर्माण का जाएजा लिया।

इसमें 57 ऐसे घरों को पाए, जिनके शौचालय निर्माण कराने के बावजूद इन घरों के परिवार आज भी खुले में शौच करने जाते हैं। जांच में दल ने लाभुक माना देवी द्वारा इसके निर्माण में दो के बजाय एक गड्ढा व दो ढक्कन बनाकर पैसा निकालने की बात बताई गई है। दल के अनुसार सरकार के निर्देशित कुल 25 बिन्दुओं पर जांच के क्रम में एसबीएम या अन्य योजना से बनाए गए शौचालय निर्माण में कहीं भी नल नहीं पाया गया। साथ ही कई यूनिट के दरवाजा टूटे मिले। चापाकल से निकलने वाले पानी का निस्तारण सोख्ता में नहीं किया जा रहा है। साथ ही गांवों में जहां तहां फैले गोबर के अन्यत्र निष्पादन की व्यवस्था नहीं। मुखिया कमलेश कुमार सिंह ने कहा कि पांच आंगनबाड़ी केंद्र पर बच्चों के लिए शौचालय का निर्माण निजी भवन में संचालित होने की वजह से नहीं बनाया गया है।

दल ने राजकीय उर्दू कन्या मवि भाई बिगहा व न्यू प्रावि कनौदा में निर्मित शौचालय में व्यापक गंदगी व बंद पाया है। दल ने कहा कि प्रतिमाह ग्राम जल एवं स्वच्छता समिति की बैठक किए जाने के विरुद्ध इस पंचायत के गांवों में एक भी बैठक नहीं की गई। बीसीओ बिनोद राम ने ग्रामीणों को खुले में शौच नहीं जाने और इससे उन्हें ही होने वाली कई बीमारी व लाभों की जानकारी दी। शौचालय रहते बाहर शौच जाने वाले ग्रामीणों को इसका उपयोग हर हाल में करने का आह्वान किया। ग्रामसभा अंत में खुले में शौच मुक्त गांव कराने का संकल्प ग्रामीणों ने लिया।

खुले में शौच मुक्त गांव बनाने का संकल्प लेते ग्रामीण।

X
57 घरों में बने हैं शौचालय पर लोग अब भी जाते हैं खुले में शौच
Click to listen..