• Home
  • Jharkhand News
  • Hatia
  • Hatia - बैंक लॉकर से तीज के गहने ले घर लौट रहे वकील पिता-पुत्र से लूट
--Advertisement--

बैंक लॉकर से तीज के गहने ले घर लौट रहे वकील पिता-पुत्र से लूट

राजधानी में अपराधियों का दुस्साहस काफी बढ़ गया है। इसका शिकार जगरनाथपुर थाना क्षेत्र के सेक्टर-2 साइड फाइव के...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 02:57 AM IST
राजधानी में अपराधियों का दुस्साहस काफी बढ़ गया है। इसका शिकार जगरनाथपुर थाना क्षेत्र के सेक्टर-2 साइड फाइव के क्वार्टर संख्या बी/2771 निवासी मनोज कुमार हुए। घटना के संदर्भ में हाईकोर्ट के वकील मनोज कुमार ने बताया कि वे बुधवार की दोपहर एक बजे अपने पुत्र (सुप्रीम कोर्ट के वकील) आशीष आनंद के साथ सेक्टर दो स्थित एसबीआई शाखा के लॉकर में रखे अपने गहने लेकर लौट रहे थे। कॉलोनी में घुसते वे अपनी कार क्वार्टर के पास सड़क किनारे खड़ी की और बेटे के साथ बढ़ने लगे। तभी लाल रंग की बाइक से दो युवक आए और उनके हाथ से गहनों से भरा बैग लूट कर भाग गए। शोर मचाते हुए पीछा भी किया, लेकिन अपराधी तेजी से कॉलोनी की ओर से भाग गए। बैग में अंगूठी, सोने की चेन, मांगटीका, डायमंड रिंग, नाक-कान के गहने, चूड़ियां आदि थे।

अपने आवास में हाईकोर्ट अधिवक्ता प|ी के साथ।

प|ी व बहू के पहनने के लिए जेवर ला रहे थे हाईकोर्ट अधिवक्ता

कॉलोनी के बीच दिनदहाड़े हुई इस घटना से मनोज का परिवार सहित कॉलोनी के लोग हतप्रभ हैं। लोग अपने आपको असुरक्षित मान रहे हैं। मनोज के अनुसार, दोनों युवक की उम्र 20 से 25 वर्ष होगी। बाइक के पीछे बैठ झपट्‌टा मारने वाला युवक हेलमेट पहने था। सभी गहने उनकी प|ी मीरा सिन्हा, पुत्र और बहू के थे, जिसकी कीमत खरीदने के वक्त करीब पांच लाख रुपए होगी। आज की तिथि में इसकी कीमत करीब आठ लाख होगी। आज हरिततालिका पर्व (तीज) था। इस कारण त्योहार के लिए सास-बहू के गहने लेकर आ रहे थे। साथ ही बैंक के लॉकर में रखे गहने नमी की वजह से खराब न हो जाए, इसलिए वे घर ला रहे थे। उनकी बहू की यह पहली तीज थी। नवंबर 2017 में ही उनके पुत्र की शादी हुई है। इस संबंध में मनोज कुमार ने जगन्नाथपुर थाने में मामला दर्ज कराते हुए त्वरित कार्रवाई की मांग की है, ताकि इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो।

जल्द ही अपराधियों की गिरफ्तारी होगी

जगन्नाथपुर के थाना प्रभारी अनूप कुमार कर्मकार ने बताया कि जल्द ही अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। बैंक समेत अन्य स्थानों पर लगे सीसीटीवी को खंगाला जा रहा है। साथ ही संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। संदेह के आधार पर लोगों से पूछताछ की जा रही है।