पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Hazaribagh News Ak Susan Hospital Management Claims Claim Cleavage In Ayushman Bharat Scheme

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एके सनसाइन हॉस्पिटल प्रबंधन पर आयुष्मान भारत योजना में क्लेम गबन का मामला दर्ज

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हजारीबाग मासीपीडी एके सन साइन हास्पिटल के प्रबंधक पर मुफ्फसिल थाना में आयुष्मान भारत योजना के क्लेम राशि घोटाला से संबंधित गुरूवार को मामला दर्ज कर लिया गया। मामले के सूचक सीएस डा. ललिता वर्मा द्वारा अधिकृत डीटीओ डा. गोपाल दास एवं एसीएमओ डा मेजर पीके सिन्हा हैं। इस संबंध में प्रबंधक के विरूद्ध कांड संख्या 140/19 धारा 468, 471, 420, 406 के तहत दर्ज किया गया है।

जिसमें सदर अस्पताल एवं ईचाक पीएचसी का फर्जी रेफरल स्लीप बना कर सरकारी स्वास्थ्य संस्थान से 14 रेफरल मरीजों का हैस्टिरिकोटोमी सर्जरी कर दो लाख से अधिक की राशि आयुष्मान भारत योजना के क्लेम मद से प्राप्त करने का आरोप है। जबकि जांच में यह भी पाया गया है कि इन रेफरल के अलावा इस हास्पिटल में 23 मरीजों का ऑपरेशन कर 4 लाख से अधिक क्लेम राशि प्राप्त किया गया। इस मामले को दैनिक भास्कर ने प्रमुखता से पिछले सप्ताह प्रकाशित किया था। जिसमें आवेदन में तकनीकी खामियों के कारण एफआईआर दर्ज किए जाने में विलंब हुआ।

क्या है एफआईआर में

सीएस द्वारा एके सन साइन हास्पिटल के प्रबंधक के उपर दर्ज कराए एफआईआर में कहा है कि स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग झारखंड स्टेट आरोग्य सोसाइटी के निर्देशानुसार ज्ञापांक 165/24 मई 2019 का छाया प्रति संलग्र है जिसके अनुसार एके सन साइन हास्पिटल हजारीबाग के द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत लाभुकों का फर्जी रेफरल स्लीप के आधार पर हैस्टिरिकोटोमी का ऑपरेशन किया गया। जिसकी पुष्टि सदर अस्पताल के डीएस एवं ईचाक पीएचसी के प्रभारी द्वारा की गई है। इस तरह सरकारी स्वास्थ्य संस्थान के नाम पर धोखाधड़ी कर लगभग दो लाख का गबन किया गया है। एफआईआर के साथ दोनों अस्पतालों का फर्जी रेफरल स्लीप, मरीजों का लिस्ट ,जांच रिपोर्ट व मुख्यालय के निर्देश पत्र सहित दस पन्ने के साक्ष्य संलग्र किए गए हैं।

ऐसे पकड़ में आया मामला

हजारीबाग जिले में आयुष्मान योजना धरातल पर उतरते हीं विवादों में आ गया था। इसके पूर्व फर्जी अकाउंट में 405000 रूपया डंप कराने का मामला सामने आया था। इसे भी दैनिक भास्कर ने हीं पहले उजागर किया था। जिस पर मामला दर्ज हुआ था। सेफवे इंश्योरेंस कंपनी का जिला कोर्डिनेटर को बरखास्त किया गया था और जिस अकाउंट में राशि डंप हुआ था उस अकाउंट धारक को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। आज भी वह जेपी कारा में है।

इसके बाद से जिला में कार्यरत नए कोर्डिनेटर मुन्ना कुमार लगातार अलर्ट था। जहां भी क्लेम की राशि विभाग द्वारा देय हो रहा था उसकी पड़ताल लगातार हो रहा था। तभी सामने आया कि एके सन साइन हास्पिटल एक प्राईवेट हास्पिटल है। जिसने उन मरीजों का सर्जरी कर क्लेम प्राप्त किया है जो सिर्फ सरकारी संस्थानों में हीं सर्जरी होना निर्धारित है। अगर उस मर्ज का सर्जरी प्राईवेट में किया भी जाता है तो सरकारी संस्थान का रेफरल होना चाहिए। जब जांच हुई तो रेफरल स्लीप ईचाक पीएचसी और सदर अस्पताल का पाया गया। इस पर डीटीओ को जांच की जिम्मेदारी दी गई। जांच में पाया गया कि मामला सत्य है। ईचाक पीएचसी अगर रेफर करेगा तो सदर अस्पताल हजारीबाग को ना कि एके सन साइन को। सदर अस्पताल रेफर करेगा तो रिम्स या यहां से बेहतर संसाधन से लैस अस्पताल को रेफर करेगा। जब रेफरल स्लीप के हस्ताक्षर का मिलान हुआ तो सभी फर्जी पाए गए। फिर रिपोर्ट राज्य मुख्यालय को भेजा गया। वहां से प्राप्त निर्देश पर एफआईआर दर्ज किया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें